एक और हिंदू लड़की को शादी के मंडप से अगवा कर जबरन कराया गया धर्म परिवर्तन और निकाह
January 27th, 2020 | Post by :- | 230 Views

नई दिल्ली. पाकिस्तान से एक और अल्पसंख्यक हिंदू लड़की का अपहरण कर जबरदस्ती धर्म परिवर्तन कराए जाने और निकाह पढ़ाए जाने की खबर सामने आई है. दिल्ली सिख गुरुद्वारा कमेटी के प्रबंधक, राजौरी गार्डन से विधायक और अकाली दल के राष्ट्रीय प्रवक्ता मनजिंदर सिंह सिरसा ने पाकिस्तानी न्यूज रिपोर्ट को ट्वीट करते हुए यह दावा किया है. इस घटना को लेकर उन्होंने अपना भी एक वीडियो जारी किया है.
मनजिंदर सिंह सिरसा ने आरोप लगाया है कि पाकिस्तान में सरकार और प्रशासन भी ऐसी घटनाओं में अपराधियों के साथ शामिल होता है. उन्होंने आरोप लगाया कि पाकिस्तान में पिछले 75 दिनों में ऐसी 53 हिंदू और सिख अल्पसंख्यक लड़कियों के नाम सामने आ चुके हैं, जिसमें लड़कियों का जबरन धर्म परिवर्तन कराके उनके साथ निकाह किया गया है.
मनजिंदर सिंह सिरसा ने दावा किया कि यह घटना कराची से पहले पड़ने वाले हाला नाम के एक शहर की है. जहां शाहरुख नाम के दबंग और उसके साथियों ने अल्पसंख्यक लड़की को उसके शादी के मंडप से उठाया और जबरदस्ती उसका धर्म परिवर्तन कराकर, निकाह पढ़वा दिया. जब पुलिस आई और उसने इसके बारे में पूछताछ की तो कहा गया कि लड़की ने अपनी मर्जी से इस्लाम कबूल कर लिया था और निकाह भी एक महीना पहले ही कर लिया था..
पाकिस्तान से ऐसे मामले लगातार सामने आते रहे हैं. पाकिस्तान में और उसके बाहर ऐसे अपराधों की आलोचना होती रही है. पाकिस्तान में अल्पसंख्यक लड़कियों का अपहरण कर धर्मांतरण और जबरदस्ती निकाह का मामला तब दुनिया भर में आलोचना की वजह बना था जब एक हिंदू मेडिकल स्‍टूडेंट नमृता चंदानी की हत्‍या के मामले की दुनियाभर ने आलोचना की थी. फिलहाल दो दिन पहले ही नया मामला सिंध प्रांत से भी आया था. जिसमें सिंध प्रांत के जैकबाबाद जिले की एक 15 साल की हिंदू लड़की का अपहरण कर जबरन मुस्लिम व्‍यक्ति से शादी करा दी गई थी.9वीं कक्षा की छात्रा महक कुमारी के पिता विजय कुमार ने पुलिस को बताया कि 15 जनवरी को जैकबाबाद जिले से अली रजा सोलंगी ने उनकी बेटी का अपहरण कर लिया था. इसके बाद उसका जबरन धर्मांतरण कराया गया था. फिर जबरदस्‍ती उसकी शादी एक मुस्लिम व्‍यक्ति के साथ कर दी गई थी. पुलिस ने महक को तलाश कर मंगलवार को अदालत में पेश किया था. इसके बाद अदालत ने महक को महिला पुलिस सुरक्षा केंद्र में भेज दिया था.

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।