ऑनलाइन ठगी का शिकार हुई देहरा की शिल्पा, अपने पति के साथ रहती है लखनऊ में
August 21st, 2019 | Post by :- | 910 Views
ऑनलाइन ठगी का शिकार हुई देहरा की शिल्पा, अपने पति के साथ रहती है लखनऊ में | 
लड़की के पिता का आरोप बैंक मैनेजर की है मिली भगत,  खाते से निकले 66711 रूपए | 
देहरा, | ऑनलाइन ठगी आजकल आम बात हो गयी है हर रोज़ ना जाने कितने लोग इस ठगी का शिकार होते हैं | ताज़ा मामले में देहरा के साथ लगते खबली का है उक्त महिला शिल्पा अपने पति के साथ 3 महीने से लखनऊ में अपने पति के साथ जोकि एसएसबी में कार्यरत है के साथ रहती है | शिल्पा ने लखनऊ से ऑनलाइन शॉपिंग कर 1100 रूपए सामान मंगवाया और उसकी कीमत ऑनलाइन अदा कर दी | लेकिन किन्ही कारणों से सामान डिलीवर नहीं हो स्का और कम्पनी ने उन्हें 1100 रूपए का चेक काट दिया | इसी समबन्ध में शिल्पा ने मोबाइल पर एसबीआई काँगड़ा का मोबाइल नंबर सर्च किया  09523531857 है पर काल की | काल उठाते ही उस व्यक्ति ने कहा कि मैं एसबीआई काँगड़ा का बैंक मेनेजर बोल रहा हूँ जिसके बाद शिल्पा ने बताया कि उसकी 1100 रूपए की राशि अभी तक खाते में नहीं आयी है जिसके चलते उसने बताया कि आपकी 1100 रूपए की राशि कहते में नहीं आ रही है जिसके लिए आप अपने एटीएम कार्ड के 16 डिजिट बताइए | जोकि शिल्पा ने बता दिए लेकिन उसके 30 से 45 मिनट बाद उसे संदेश आया कि उसके खाते से 66711 रूपए राशि  निकाल ली गयी है जिसे पढ़कर वो स्तब्ध रह गयी और इसके बारे में अपने पिता महिंद्र सिंह को बताया | पिता महिंद्र ने काँगड़ा पुलिस जाकर उकत वयक्ति के खिलाफ मामला दर्ज़ करवाया और मांग की कि  नंबर 095253531857 अभी भी चल रहा है जिसे शिनाख्त कर  जल्द से जल्द पकड़ा जाए ताकि किसी और के साथ ऐसा ठगी का हादसा ना हो | 
साथ ही शिकायत करता महिंद्र सिंह ने कहा कि उनके बार बार कहने पर भी काँगड़ा पुलिस पर आरोप लगाया कि पुलिस ने उनकी एफआईआर की जगह डीडीआर बनाई पूछने पर कहा कि हम आरोपी को उत्तराखंड में कैसे तलाश करेंगे जो कि दिमाग पर ज़ोर देने वाली बात है कि उन्हें इस बात का कैसे पता कि आरोपी उत्तराखंड का है | कहीं यह मिली भगत तो नहीं ? उन्होंने प्रशाशन से न्याय की मांग की है |  

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।