कलियुग में भगवान की भक्ति ही सर्वोपरि है
January 19th, 2020 | Post by :- | 210 Views

“कलियुग में भगवान की भक्ति ही सर्वोपरि है” उक्त वाक्य पंडित सुमित शास्त्री ने श्री नरसिंह मन्दिर नगरोटा सूरियां में चल रही श्री मद भागवत कथा के पांचवे दिन कहे । शास्त्री ने वर्णन करते हुए कहा कि भगवान श्री कृष्ण के प्रति सखाओं का सच्चा विश्वास था जिसके कारण ही पूतना, अघासुर, बकासुर, केशी नामक भंयकर असुरों से उनकी रक्षा की । इसके बाद गोवर्धन महाराज की कथा सुनाते हुए शास्त्री ने बताया कि सात दिन- रात भगवान श्री कृष्ण ने अपनी कनिष्ठिका उंगली के अग्र भाग उठाकर रखा और ब्रजवासियों की रक्षा की । इसके बाद गिरिराज की विधिवत पूजा की गयी और उनको छप्पन प्रकार के व्यंजनों का भोग लगाया गया जिसको बाद में प्रशाद के रूप में बांटा गया । कथा में विनोद सन्नी पंडित, विक्की, रूपु, मोहित ठाकुर व ईशु ने भाग लिया ।कल यहां भगवान श्री कृष्ण का विवाह भगवती रूकमणी से बड़ी धूमधाम से मनाया जायेगा ।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।