कैबिनेट के फैसले: एक्सईएन की कमेटी करेगी आईपीएच भर्ती
January 17th, 2020 | Post by :- | 226 Views

मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक में आईपीएच विभाग के लिए मंजूर हुए 1578 पदों की भर्ती विभाग खुद करेगा। इसके लिए वर्तमान सरकार ने पूर्व कांग्रेस सरकार की पैरा पंप ऑपरेटर एवं फीटर भर्ती नीति को ही संशोधित किया है। यह नीति पूर्व सरकार ने 25 अगस्त, 2017 को बनाई थी। इसके तहत कुल 500 कर्मचारी चयनित किए गए थे। अब इसी प्रक्रिया से 1578 कर्मचारी भर्ती किए जाएंगे।

हालांकि कैबिनेट से पारित संशोधित नीति का ड्राफ्ट बाहर नहीं आया है, लेकिन सूत्रों का कहना है कि इसके लिए भर्ती केवल 394 चयनित पेयजल योजनाओं के अंगेस्ट तीन कैटेगरी में होगी। इनमें 417 पैरा पंप ऑपरेटर, 287 पैरा फीटर और 874 बहुद्देश्यीय कार्यकर्ता होंगे। इसके लिए एक्सईएन की अध्यक्षता में कमेटी बनेगी। इस कमेटी में एसडीओ और जेई सदस्य होंगे। पहले पंचायत प्रधान भी इसमें सदस्य थे।

आवेदन के लिए स्थानीय क्षेत्र की भी कोई शर्त नहीं होगी। इन कर्मचारियों को मानदेय कितना होगा, ये भी पॉलिसी के बाहर आने के बाद ही तय होगा। दरअसल आईपीएच विभाग जल जीवन मिशन के तहत नई योजनाएं बना रहा है, लेकिन स्टाफ की कमी होने के कारण इन स्कीमों को चलाने के लिए कर्मचारी नहीं मिल रहे। जल्दी कर्मचारी मिल जाएं, तभी भर्ती विभाग के माध्यम से ही करने का फैसला हुआ है। इन कर्मचारियों को बाद में कब अनुबंध पर लिया जाएगा, इसका कोई हवाला पॉलिसी में नहीं है।

आउटसोर्स कर्मियों को प्राथमिकता दे सकता है विभाग

इससे पहले आईपीएच ने पिछले साल 2322 पदों पर आउटसोर्स से कर्मचारी रखे थे। ये वर्तमान में भी आउटसोर्स पर ही काम कर रहे हैं। इन्हें इस भर्ती में प्राथमिकता देने के लिए अतिरिक्त अंकों का प्रावधान किया जा सकता है, लेकिन इस बारे में पॉलिसी के नोटिफाई होने के बाद ही पता चलेगा। आईपीएच सचिव डॉ. आरएन बत्ता का कहना है कि पॉलिसी के अधिसूचित होते ही एकदम भर्ती शुरू हो जाएगी।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।