देहरा में मछली खरीद की बोली में गड़बड़ी, मुख्यमंत्री हेल्पलाइन 1100 पर शिकायत*
February 26th, 2020 | Post by :- | 190 Views

*देहरा में मछली खरीद की बोली में गड़बड़ी, मुख्यमंत्री हेल्पलाइन 1100 पर शिकायत*

देहरा। द पौंग डैम फिशरीजमेन कोऑपरेटिव सोसायटी देहरा के मछली खरीद की बोली में गड़बड़ी की खबर है। जिसकी शिकायत बोली देने आए ठेकेदार मदन लाल डोगरा ने अब मुख्यमंत्री सेवा संकल्प हेल्पलाइन 1100 पर कर दी है। शिकायत नम्बर 224951 सम्बंधित अधिकारी एसिस्टेंट डायरेक्टर फिशरीज भेज दी गई है। शिकायतकर्ता मदन लाल डोगरा ने कहा कि फिशरीज डिपार्टमेंट सनोट देहरा में हुई बोली में सरेआम धांधली हुई है। उन्होंने कहा कि मछली खरीद के लिए बिना शर्तों के ही यह शर्त लगा दी गई कि ठेकेदार के पास 10 कनाल जमीन भी होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि यह गरीब लोगों को कुचलने के लिए ऐसा किया गया। उन्होंने कहा कि पिछले 40 वर्षों से कैसे एक ही व्यक्ति बोली ले रहा है इसकी भी जांच होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि अधिकारियों की मिली भगत से सरकार के राजस्व में चूना लग रहा है। पिछले वर्ष गर्मियों में मछली खरीदने का रेट ₹140, सर्दियों का ₹ 200 था, जिसे अब कुछ रुपये ही बढ़ाये गए हैं। शिकायत कर्ता मदन लाल डोगरा ने कहा कि मैंने गर्मियों में मछली खरीदने का रेट ₹150, सर्दियों का ₹ 250 भरा था। लेकिन मुझे जलील करके व नई शर्तें लगाकर की 10 कनाल जमीन, 3 लाख रुपये सिक्योरिटी राशि देने को कहा। उन्होंने कहा कि बोली देने से पहले हमनें ₹ एक लाख डिपॉजिट भी करवाए थे। शिकायतकर्ता ने कहा कि इसकी जांच होनी चाहिए कि फर्जी नियम किसने बनाए। मदन लाल डोगरा ने कहा कि मैंने मुख्यमंत्री सेवा संकल्प हेल्पलाइन 1100 पर इसकी शिकायत दर्ज करवा दी है।

ठेकेदार हरबंस पठानिया ने बताया कि उन्होंने नियमों के अनुसार ही बोली की प्रक्रिया हुई है। उन्होंने बताया कि मछली खरीदने के रेटों में इजाफा हुआ है। उन्होंने कहा कि मछली पकड़ने वाले शिकारी भी मुझपर विश्वास करते हैं।

एसिस्टेंट डायरेक्टर फिशरीज, जय सिंह ने कहा कि सोसायटी बोली करबाती है। उन्होंने कहा कि नियमों के अनुसार ही बोली की गई व इसमें इजाफा हुआ है। उन्होंने कहा कि गर्मियों में ₹ 140 से बढ़ाकर ₹ 150 कर दिया गया है व सर्दियों में ₹ 200 से बढ़ाकर ₹ 215 कर दिया गया है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।