देहरा में 36 लोगों के सैंपल सामान्य, भेजे घर: एसडीएम
May 22nd, 2020 | Post by :- | 460 Views

देहरा में 36 लोगों के सैंपल सामान्य, भेजे घर: एसडीएम
रक्कड़ क्वारंटरन केंद्र में ठहराए दिल्ली से आए 39 लोग
देहरा, देहरा में 36 लोगों के सैंपल सामान्य आने के बाद आज इन्हें घरों को भेज दिया गया है। एसडीएम देहरा धनबीर ठाकुर ने जानकारी देते हुए बताया कि ढलियारा के राधा स्वामी सतसंग भवन में क्वारंटीन किए गए 36 लोगों के नमुने कल जांच के लिए भेजे गए थे, जिनका परिणाम आज सामान्य आने के बाद आज इन लोगों को प्रशासन द्वारा एचआरटीसी की बसों से घरों को भेज दिया गया है। उन्होंने बताया कि रिर्पाट सामान्य आने के बाद जिन लोगों को घर भेजा जा रहा है, उन्हें प्रशासन द्वारा होम क्वारंटीन में रहने के सख्त निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि घर जाने के बाद भी इन लोगों को 28 दिन की आवश्यक क्वारंटीन अवधि को पूरा करना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि होम क्वारंटीन का उल्लंघन करने वालों के विरूद्ध दण्डात्मक कार्यवाही अमल में लाई जाएगी और उन्हें पुनः संस्थागत क्वारंटीन में भेज दिया जाएगा।
एसडीएम देहरा धनबीर ठाकुर ने जानकारी देते हुए बताया कि राजकीय महाविद्यालय रक्कड़ में बने क्वारंटीन सेंटर में कल रात अन्य 39 लोगों को रखा गया है। उन्होंने जानकारी देते हुए बताया कि यह सब लोग बस के माध्यम से दिल्ली से यहां पहुंचे हैं और पहुंचते ही इन्हें रक्कड़ में संस्थागत क्वारंटीन केंद्र में रखा गया है। उन्होंने बताया कि इसके अतिरिक्त सभी क्वारंटीन केंद्रों में सैनिटेशन और साफ-सफाई का पूरा ध्यान द्वारा रखा जा रहा है। जिसके तहत राजकीय महाविद्यालय ढलियारा और राधा स्वामी सतसंग भवन ढलियारा के पूरे भवन और परिसर को अग्निशमन विभाग द्वारा पूर्ण रूप से सैनिटाईज करवाया गया है।
धनबीर ठाकुर ने आस-पास के क्षेत्रों में कोरोना के बढ़ते केसों के बाद उपमंडल की जनता को और अधिक सजग रहने का आग्रह किया है। उन्होंने कहा है कि बढ़ते केसों से जनता को किसी भी प्रकार से डरने की आवश्यता नहीं है, लेकिन सबको अब और अधिक सजगता से कार्य करना होगा। उन्होंने कहा कि ऐसे समय में प्रशासन के साथ-साथ जनता की जिम्मेवार भी बढ़ जाती है, अतः उपमंडल के सभी लोग नियमों का पालन करें और हर प्रकार से सावधानी बरतें।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।