ना भूलेंगे, ना माफ करेंगे, इस हमले का बदला लेकर रहेंगे-CRPF
February 15th, 2019 | Post by :- | 371 Views

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद से पूरे देश में गुस्सा है. हर कोई इस आतंकी हमले का बदला लेने के लिए कह रहा है. जितना गुस्सा देश की जनता में है उतना ही गुस्सा देश की सेना में भी है. शुक्रवार को CRPF के ट्विटर हैंडल से एक संदेश जारी किया गया, जो देशवासियों को हौसला देता है. CRPF ने अपने ट्वीट में कहा है कि इस जघन्य अपराध का बदला जरूर लिया जाएगा.

CRPF की ओर से ट्वीट किया गया, ‘’ हम भूलेंगे नहीं, हम बख्शेंगे नहीं: पुलवामा हमले में शहीद हुए जवानों को हम सलाम करते हैं और उनके परिवार वालों के साथ खड़े हैं. इस जघन्य हमले का बदला लिया जाएगा.’’

आपको बता दें कि पुलवामा में गुरुवार को जो आतंकी हमला हुआ उसमें CRPF के 40 जवान शहीद हुए हैं. शहीद जवानों को श्रीनगर से नई दिल्ली लाया जा रहा है, जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण शहीदों को श्रद्धांजलि देंगे.

सेना के सुर में सरकार ने मिलाया सुर

सुरक्षाबलों के साथ ही मोदी सरकार ने भी आतंकियों के खिलाफ हल्ला बोलने की तैयारी कर दी है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार सुबह ही कहा कि आतंकियों ने सबसे बड़ी गलती कर दी है, उन्हें इस गलती की सजा भुगतनी होगी. प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्होंने सुरक्षाबलों को खुली छूट दी है.

प्रधानमंत्री के बयान के बाद से ही पुलवामा के आस-पास के गांवों में सर्च ऑपरेशन जारी है, अभी तक 5 संदिग्धों को हिरासत में ले लिया गया है. जबकि नई दिल्ली में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल भी सभी सुरक्षा एजेंसियों के अधिकारियों के साथ बैठक कर रहे हैं और आगे की रणनीति पर काम कर रहे हैं.

पुलवामा हमले पर शुक्रवार सुबह सुरक्षा मामलों के केंद्रीय समिति की बैठक भी हुई, इस बैठक में फैसला लिया गया है कि पाकिस्तान को अभी तक जो मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा दिया गया था वह वापस ले लिया गया है.

इसके अलावा विदेश मंत्रालय भी दुनिया भर में पाकिस्तान को अलग-थलग करने के लिए कूटनीतिक तौर पर काम करेगा. CCS की बैठक में फैसला हुआ है कि गृह मंत्री राजनाथ सिंह की अगुवाई में सर्वदलीय बैठक बुलाई जाएगी, जिसपर हर पहलुओं पर चर्चा की जाएगी.

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।