निर्भया मामला: दोषी मुकेश ने की दया याचिका ठुकराने के खिलाफ तत्काल सुनवाई की मांग
January 27th, 2020 | Post by :- | 258 Views

नई दिल्ली. निर्भया मामले के दोषियों में से एक मुकेश कुमार सिंह ने सोमवार को सुप्रीम कोर्ट का रुख किया और अपनी दया याचिका राष्ट्रपति द्वारा खारिज किए जाने के विरोध में दायर अपनी अपील पर तत्काल सुनवाई की मांग की. सुप्रीम कोर्ट ने दोषी मुकेश के वकील से कहा कि वह शीर्ष अदालत के सक्षम अधिकारी के समक्ष सोमवार को ही याचिका का उल्लेख करें. सुप्रीम कोर्ट ने निर्भया मामले के दोषी मुकेश की याचिका पर कहा कि, अगर किसी को फांसी दी जाने वाली है तो इस मामले की सुनवाई से अधिक जरूरी कुछ नहीं हो सकता.
गौरतलब है कि 2012 में पैरामेडिकल की छात्रा का बर्बर सामूहिक बलात्कार हुआ था और उसे मरने के लिए छोड़ दिया गया था. घटना के कुछ दिन बाद छात्रा की मौत हो गई थी.
मुकेश (32) की दया याचिका राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने 17 जनवरी को खारिज कर दी थी.
प्रधान न्यायाधीश एस.ए. बोबडे की पीठ ने कहा, ‘‘अगर किसी को फांसी दी जाने वाली है तो इससे अधिक आवश्यक कुछ और हो ही नहीं सकता.’’ साथ ही उन्होंने कुमार के वकील को शीर्ष अदालत के सक्षम अधिकारी से संपर्क करने को कहा.
निर्भया मामले के चारों दोषियों को एक फरवरी को सुबह छह बजे फांसी दी जानी है.
इस्राइल में पहली बार शहरियों को सऊदी अरब जाने की इजाजत मिलीइस्राइल में पहली बार शहरियों को सऊदी अरब जाने की इजाजत मिली3 दिन में जरूर निपटा लें बैंक के सभी काम, 31 जनवरी से 2 फरवरी तक रहेंगे बंद3 दिन में जरूर निपटा लें बैंक के सभी काम, 31 जनवरी से 2 फरवरी तक रहेंगे बंदजयपुर: कोरोना वायरस संदिग्ध एसएमएस में भर्ती, सेम्पल जांच के लिए पुणे भेजाजयपुर: कोरोना वायरस संदिग्ध एसएमएस में भर्ती, सेम्पल जांच के लिए पुणे भेजापिकअप पलटने से 18 मजदूर घायल, पंचायत चुनाव में वोट डालने गांव आ रहे थे सभीपिकअप पलटने से 18 मजदूर घायल, पंचायत चुनाव में वोट डालने गांव आ रहे थे सभीइस देश में इंसानों की जिंदगी बचा रहे हैं चूहे, दुनियाभर में हो रही तारीफइस देश में इंसानों की जिंदगी बचा रहे हैं चूहे, दुनियाभर में हो रही तारीफ
उच्चतम न्यायालय द्वारा मुकेश की दोषसिद्धी और मौत की सजा के खिलाफ दायर सुधारात्मक याचिका खारिज करने के बाद सिंह ने दया याचिका दायर की थी.

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।