बस चालक ने बीच जंगल में उतार दिए 17 जमाती, नेरवा तक का बना था परमिट
May 16th, 2020 | Post by :- | 365 Views

लॉकडाउन में हरियाणा में फंसे उत्तराखंड और हिमाचल के 17 जमातियों को बस चालक ने हिमाचल पहुंचने से पहले ही एक सुनसान जंगल में उतार दिया और बस लेकर वापस चला गया। करीब दो किलोमीटर पैदल चलकर सभी जमाती पांवटा साहिब के बहराल बैरियर पर पहुंचे तो वहां पर उन्हें रोक दिया गया। अब प्रशासनिक अनुमति के बाद ही उन्हें आगे जाने दिया जाएगा।
साढ़े 5 बजे से जमाती जिला प्रशासन, विधायक पांवटा व एसडीएम पांवटा से प्रदेश सीमा में प्रवेश व गंतव्य स्थल तक पहुंचाने को गुहार लगाते रहे। लेकिन, कड़ी धूप में जमाती बैरियर के समीप ही घंटों तक बैठे रहे। पंचायत मिश्रवाला बीडीसी सदस्य फरीज खान, कादिर अली, नजीर अली व इस्लाम का कहना है कि 15 हिमाचल और 2 उत्तराखंड के कुल 17 जमाती हरियाणा गए थे।
कर्फ्यू-लॉकडाउन के चलते वही फंसे रहे। इन सभी ने 42 दिन क्वारंटीन में बिताए हैं। इसके बाद मिनी बस से इनको हिमाचल के नेरवा तक का ई पास मिल गया। इस बस में 9 जमाती नेरवा, 6 पांवटा व 2 उत्तराखंड जाने थे। कहा जा रहा है कि कुछ दिनों पहले ही परवाणू सीमा पर इसी क्षेत्र की एक बस को सील कर दिया था। जिससे भयभीत हरियाणा बस चालक ने बस को हिमाचल सीमा से 2 किमी पीछे दूर जंगल में इन जमातियों को उतार दिया। सभी जमाती 2 किलोमीटर दूर से पैदल बहराल तक पहुंचे। बीडीसी सदस्य मिश्रवाला फरीज खान का कहना है कि पांवटा के विधायक व एसडीएम को सूचित कर दिया गया था। आज कल रोजे होने पर सभी 17 जमाती भूखे-प्यासे पैदल राज्य सीमा बैरियर पर पहुंचे।

इसके बाद स्थानीय प्रशासन के आदेशों का इंतजार कर रहे हैं। नूह जमात में गए हुए जमातियों को कई घंटे बीतने पर भारी दिक्कतें हो रही हैं। सभी दस्तावेज होने पर सभी जमातियों को अपने ही राज्य में प्रवेश नहीं मिल रहा है। उधर, एसडीएम पांवटा एलआर वर्मा ने कहा कि इस तरह की जानकारी पहुंची है। इस समस्या को जिलाधीश सिरमौर के ध्यानार्थ भेज दिया गया है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।