बिंदल का नाम भाजपा प्रदेशाध्यक्ष पद के लिए हुआ आगे, विस अध्यक्ष का पद छोड़ने को भी तैयार
January 15th, 2020 | Post by :- | 248 Views
भाजपा प्रदेशाध्यक्ष के लिए हिमाचल विधानसभा अध्यक्ष डॉ. राजीव बिंदल का नाम फिर चर्चा में है। पद के लिए 17 जनवरी को नामांकन होगा, जबकि 18 को चुनाव होने हैं। हाईकमान का आदेश हुआ तो डॉ. बिंदल विधानसभा अध्यक्ष का पद छोड़ने को भी तैयार हैं। उन्होंने कहा कि ऐसा कुछ होता है तो वह पूरी ड्यूटी करेंगे, बिंदल ने खुद को पार्टी का कार्यकर्ता बताया। लोहड़ी के उपलक्ष्य पर बिंदल ने ओक ओवर जाकर मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर से भेंट की। सूत्रों के अनुसार दोनों में नए भाजपा अध्यक्ष पद के बारे में भी चर्चा हुई है। दूसरी ओर मंगलवार को बिंदल ने कहा कि पार्टी प्रदेशाध्यक्ष के नाम की चर्चा चलने में तो कोई बुराई नहीं है। हम तो पार्टी के कार्यकर्ता है।

पार्टी बोलती है कि दाएं बैठो तो दाएं बैठेंगे और बाएं बोलते हैं तो बाएं बैठेंगे।  जब उनसे पूछा कि क्या इस बारे में हाईकमान या मुख्यमंत्री से कोई बात हुई है? इस पर उन्होंने कहा कि निर्णय क्या और कैसे होगा, इस बारे में तो कोई पता नहीं है। मगर उन्हें भी मालूम हुआ है कि चर्चा चल रही है। 17 को नामांकन होगा तो उस समय पता लग ही जाएगा।

भाजपा प्रदेशाध्यक्ष के लिए कई नामों पर चर्चा

भाजपा प्रदेशाध्यक्ष पद के लिए कई नामों पर चर्चा चली हुई है। शुरू में शिमला के पूर्व सांसद वीरेंद्र कश्यप का नाम था। उनके बाद मंत्री बिक्रम ठाकुर, फिर प्रदेश भाजपा कोर कमेटी ने त्रिलोक जम्वाल, राजीव भारद्वाज, रणधीर शर्मा के नाम आलाकमान को भेजे। फिर राकेश जम्वाल, त्रिलोक कपूर, महेंद्र धर्माणी के नाम भी उछले। अब डॉ. बिंदल की चर्चा है। बिंदल चुनाव के बेहतरीन प्रबंधन के लिए मशहूर हैं।

भाजपा के वरिष्ठ नेता डा. बिंदल वाक्पटु होने के साथ-साथ भाजपा के सभी खेमों के लिए भी स्वीकार्य हैं। पूर्व सीएम प्रेम कुमार धूमल के वह करीबी रह चुके हैं। हाल ही में भाजपा के कार्यकारी राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा से उनकी नजदीकी चर्चा में है। सीएम जयराम ठाकुर से भी उनके अच्छे संबंध हैं। भाजपा प्रदेशाध्यक्ष पद के लिए ऐसे चेहरे को ही तलाश रही है कि जो वर्ष 2022 के विधानसभा चुनाव में मिशन रिपीट कर सके। इसीलिए डा. बिंदल रेस में आगे माने जा रहे हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।