भारी बारिश से दो दिन में 14.77 करोड़ का नुकसानः डीसी
August 19th, 2019 | Post by :- | 320 Views

ऊना (19 जुलाई)- पिछले दो दिन से हो रही भारी बारिश की वजह से जिला ऊना में 14.77 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है। यह जानकारी उपायुक्त ऊना संदीप कुमार ने आज यहां दी। उन्होंने बताया कि जिला में विभिन्न सड़कें टूटने से पीडब्ल्यूडी विभाग को 4.62 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है। आईपीएच की विभिन्न योजनाएं भी क्षतिग्रस्त हुई हैं, जिनमें 72 सिंचाई योजनाएं तथा 79 पेयजल योजनाएं शामिल हैं। एक सीवरेज स्कीम को भी क्षति पहुंची है। इससे विभाग को 5.51 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है। स्वां नदी फ्लड मैनेजमेंट प्रोजेक्ट के हरोली सर्किल को 1.48 करोड़ तथा ऊना व गगरेट सर्किल को 2.83 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है।
डीसी ने बताया कि भारी बारिश की वजह से बिजली विभाग की लाइनों को भी क्षति पहुंची है। बिजली विभाग को 27.30 लाख रुपए का नुकसान हुआ है। इसके अलावा नगर परिषद ऊना को भी 5 लाख रुपए का नुकसान उठाना पड़ा है।
3 सड़कें खोलने के प्रयास जारी
उपायुक्त ने कहा कि भारी बारिश और भूस्खलन के चलते जिला में कई सड़कें बाधित हुई थी, जिनमें से अधिकतर को यातायात के लिए खोल दिया गया है। पीडब्ल्यूडी के बंगाणा उप-मंडल में अभी भी 3 सड़कें बंद हैं। इनमें हंडोला-जगातखाना, सैली-हंडोला, ओलिंडा-बोहरू शामिल हैं। डीसी ने कहा कि पीडब्ल्यूडी विभाग जल्द से जल्द इन सड़कों को बहाल करने का प्रयास कर रहा है।
मॉनसून में अब तक 94 करोड़ का नुकसान
डीसी ने कहा कि मॉनसून के सक्रिय होने के बाद अब तक कुल 94.33 करोड़ की संपत्ति क्षतिग्रस्त हुई है। मॉनसून सीज़न में दो पशुओं की मौत बिजली गिरने तथा दो की मौत बाढ़ से हुई है।
अगले 24 घंटों में भी बारिश की चेतावनी
डीसी ने कहा कि मौसम विभाग ने अगले 24 घंटों के दौरान जिला ऊना में तेज बारिश की चेतावनी दी है। उन्होंने कहा कि रविवार को 179.2 मिमी बारिश रिकॉर्ड की गई तथा उसके बाद 5 मिमी बारिश हुई है।
नदी-नालों के किनारे न जाने की अपील
उपायुक्त संदीप कुमार ने कहा कि आपदा प्रबंधन के टोल फ्री नंबर 1077 पर मॉनसून सीज़न के दौरान कुल 33 कॉल आए। किसी भी आपात स्थिति में उन्होंने लोगों से 1077 पर कॉल करने की अपील की है। साथ ही कहा है कि भारी बारिश की वजह से जिला के नदी-नाले उफान पर हैं, ऐसे में इनके किनारे न जाएं। उन्होंने कहा कि आम दिनों की अपेक्षा नालों व खड्डों में जलस्तर काफी ज्यादा है। नदी किनारे जाना खतरनाक साबित हो सकता है, ऐसे में लोग सतर्क रहें।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।