मंडी में हर्षोल्लास से मनाया गया जिला स्तरीय गणतंत्र दिवस समारोह
January 26th, 2020 | Post by :- | 206 Views

मंडी, 26 जनवरी : देश के 71वें गणतंत्र दिवस के अवसर पर आज मंडी के सेरी मंच पर जिला स्तरीय गणतंत्र दिवस समारोह पूरे हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। वन, परिवहन, युवा सेवाएं एवं खेल मंत्री गोविन्द सिंह ठाकुर ने समारोह की अध्यक्षता की। इस दौरान वन मंत्री ने राष्ट्रीय ध्वज फहराया और पुलिस, होम गार्ड व विभिन्न स्कूली बच्चों की एनसीसी, एनएसएस व स्काउॅटस एवं गाईड्स की टुकड़ियों द्वारा निकाले गए आकर्षक मार्च पास्ट की सलामी ली। इसके बाद सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन भी किया गया।

इस अवसर पर अपने सम्बोधन में गोविन्द सिंह ठाकुर ने संविधान निर्माताओं के साथ-साथ देश की स्वतंत्रता एवं गणतंत्र की स्थापना में आजादी के परवानों के बहुमूल्य योगदान, निःस्वार्थ त्याग और बलिदान को याद किया। उन्होंने सराहनीय सेवाओं के लिए भारतीय सेनाओं के जवानों का भी आभार जताया।
वन मंत्री ने कहा कि सरकार के प्रयासों और जन सहयोग से हिमाचल में वन क्षेत्र में अच्छी बढ़ोतरी हुई है। प्रदेश में बहुमूल्य वन संपदा के संरक्षण व संवर्धन के लिए व्यापक पौध रोपण अभियान चलाए गए हैं। बीते दो वर्षाें में 17285 हैक्टेयर वन भूमि में 1.54 करोड़ पौधे लगाए गए हैं। हमारा लक्ष्य है कि साल 2030 तक प्रदेश का वन क्षेत्र 30 प्रतिशत तक पहुंचे। इसे लेकर समर्पित प्रयास किए जा रहे हैं।

पर्यटन विकास पर जोर

गोविन्द ठाकुर ने कहा कि सरकार पर्यटन क्षेत्र को निखारने के लिए योजनाबद्ध ढंग से काम कर रही है, जिससे युवाओं को रोजगार के नए अवसर मिलेंगे। इस कड़ी में मंडी में भी पर्यटन गतिविधियों को और रफ्तार दी जा रही है। जिले में पर्यटन की दृष्टि से महत्वपूर्ण स्थलों के विकास और पर्यटकों के लिए सुविधाओं की बढ़ौतरी के साथ-साथ अनछूए पर्यटक स्थलों को उभारने के प्रयास किए जा रहे हैं।
उन्होंने कहा कि ईको टूरिज्म गतिविधियों को बढ़ावा देते हुए जंजहैली क्षेत्र में ट्रेकिंग के रास्तों, पर्यटक सुविधाओं और कैम्पिंग साईट्स के विकास पर 26 करोड़ रूपए व्यय किए जा रहे हैं। ढीम कटारू में पर्यटक सांस्कृतिक केन्द्र व थुनाग में सामुदायिक भवन के निर्माण पर 25 करोड़ रूपए खर्चे जा रहे हैं।
वन मंत्री ने कहा कि जिले में हैलीपैड्स के निर्माण पर 3 करोड़ से अधिक की राशि व्यय कर रैन गलू, करसोग, खनुखेली, रिछली, सरौआ और डडोह छतरी में हैलीपैड के निर्माण कार्य प्रगति पर हैं। इसके अलावा रिवालसर, बल्ह, पोखरधार, गाडा गुसैन, बाली चौकी, कोटाधार और कमरूनाग में भी प्रस्तावित हैलीपैड के निर्माण के लिए भूमि का निरीक्षण कर लिया गया है।
उन्होंने कहा कि शिकारी देवी और बगलामुखी माता मन्दिर पण्डोह को रज्जू मार्ग से जोड़ने के लिए निविदाएं आमंत्रित की गई हैं।

हर व्यक्ति को दिया स्वास्थ्य सुरक्षा का संबल

गोविन्द ठाकुर ने कहा कि सरकार की वचनबद्धता है कि एक भी व्यक्ति धन की कमी के कारण ईलाज से महरूम न रहे। मोदी सरकार की आयुष्मान भारत योजना इस दिशा में बड़ी सहायक रही है और इससे करोड़ो परिवारों को सलाना पांच लाख रूपए की स्वास्थ्य सुरक्षा मिली है। योजना के तहत मंडी जिला में 1.74 लाख लाभार्थियों का पंजीकरण किया गया है। इसके तहत अब तक 6164 लोगों को 83 करोड़ रूपए की स्वास्थ्य लाभ सुविधा प्रदान की गई है।
वहीं आयुष्मान भारत योजना की तर्ज पर इस योजना से छूटे लोगों के लिए मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने हिमकेयर योजना शुरू की है। इसके तहत मंडी जिला में 45373 लाभार्थी पंजीकृत हैं। इसके अलावा गंभीर बीमारी की स्थिति में इलाज के अलावा रोगी की देखभाल के लिए सरकार ने सहारा योजना शुरू की है । जिसमें पीड़ित परिवारों को 2000 रुपए की सहायता राशि हर माह प्रदान की जा रही है।

गरीब-कमजोर का सहारा बनी सरकार

वन मंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार गरीब और कमजोर लोगों का सहारा बनी है। जिले में 1 लाख 1962 लोगों को सामाजिक सुरक्षा पैंशन प्रदान की जा रही है, जिस पर इस वित्त वर्ष में लगभग 130 करोड़ रूपए व्यय किए गए हैं। बीते दो वर्षों में जिले में 28 हजार 226 नए पैंशन मामले स्वीकृत किए गए हैैं।
प्रदेश सरकार द्वारा चलाई गई महत्वाकांक्षी हिमाचल गृहिणी सुविधा योजना से प्रदेश के लाखों परिवार लाभान्वित हुए हैं। योजना के तहत मंडी जिला में अभी तक 54718 निःशुल्क गैस कनैक्शन पात्र उपभोक्ताओं को वितरित किए गए हैं।

महिला मंडलों को सौंपी बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ की मशाल

इस मौके वन मंत्री ने बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान के तहत जिला प्रशासन द्वारा तैयार ‘थीम सॉंगञ जारी किया। उन्होंने अभियान के तहत ‘जागरूकता मशाल यात्रा’ का भी शुभारम्भ किया और इलैक्ट्रिक मशाल महिला मंडलों को सौंपी। ये मशाल बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान को लेकर जन जागरूकता के लिए 22 फरवरी तक जिले की 295 पंचायतों की यात्रा करेगी और मंडी में शिवरात्रि के शुभारंभ के मौके पर इसे मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर को सौंपा जाएगा।
वन मंत्री ने इस अवसर पर अभियान के संदेश को जन-जन तक पहुंचाने के लिए जन जागरूकता रथ को भी हरी झंडी दिखाकर रवाना किया।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ में बेहतर काम के लिए दी शाबाशी

वन मंत्री ने डीसी मंडी ऋग्वेद ठाकुर एवं उनकी पूरी टीम की सराहना करते हुए कहा कि इस प्रकार के अभिनव प्रयास समाज में जन जागृति लाने में सहायक होंगे। उन्होंने बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान में सराहनीय कार्यों के लिए पिछले साल मंडी जिला को राष्ट्रीय स्तर पर दो बार पुरस्कार हासिल करने की उपलब्धि के लिए जिला प्रशासन के प्रयासों की सराहना की और उन्हें बधाई दी।
वन मंत्री ने इस अवसर पर सांस्कृतिक प्रस्तुतियां देने वाले बच्चों और आकर्षक मार्च पास्ट करने वाली टुकड़ियों को पुरस्कृत किया। उन्होंने उत्कृष्ट कार्यों और सराहनीय सेवाएं देने के लिए विभिन्न विभागों के अधिकारियों व कर्मचारियों को सम्मानित भी किया।

लाभार्थियों को किया सम्मानित

गोविंद ठाकुर ने समारोह में सशक्त महिला योजना के लाभार्थियों के अलावा बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान के तहत स्कूलों में बेटियों के लिए सुविधाएं उपलब्ध करवाने और दसवीं से ग्यारवी कक्षा में बेटियों के शतप्रतिशत दाखिले वाले स्कूलों को भी ईनाम बांटे। उन्होंने इस अभियान की सफलता में सहयोग देने वाली समाज सेवी संस्थाओं, पंचायतों और सरकारी कर्मचारियों को भी सम्मानित किया।
इससे पहले उन्होंने प्रातः 11 बजे गांधी चौक पर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया।

समारोह में स्थानीय विधायक अनिल शर्मा, द्रंग के विधायक जवाहर ठाकुर, बल्ह के विधायक इन्द्र सिंह गांधी, नगर परिषद अध्यक्ष सुमन ठाकुर, पूर्व विधाक डी.डी. ठाकुर, कन्हैया लाल, जिला भाजपा अध्यक्ष रणबीर सिंह, उपायुक्त ऋग्वेद ठाकुर, पुलिस अधीक्षक गुरदेव शर्मा सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी, कर्मचारी, जन प्रतिनिधि और बड़ी संख्या में जिलावासी उपस्थित थे।
इसके अतिरिक्त जिला के सभी उपमंडलों में हर्षोल्लास के साथ गणतंत्र दिवस मनाया गया । सम्बन्धित उपमण्डलाधिकारियों ने राष्ट्रीय ध्वज फहराया और भव्य मार्च पास्ट की सलामी ली। इस अवसर पर सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किए गए।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।