विंग कमांडर की तारीफ में बोले मोदी- भारत ने बदल डाला डिक्शनरी में अभिनंदन का अर्थ
March 2nd, 2019 | Post by :- | 244 Views

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को विज्ञान भवन कार्यक्रम में एयरफोर्स के पायलट विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान की जमकर तारीफ की। उन्होंने अभिनंदन की वतन वापसी के बाद कहा कि भारत में ताकत है कि वह डिक्शनरी में शब्दों के अर्थ बदल सकता है। पीएम ने कहा, ‘पहले अभिनंदन का अर्थ कॉन्ग्रेचुलेशन होता था, लेकिन आज इस शब्द का अर्थ बदल गया है।’

मोदी ने कहा कि यह नया भारत है, जिसकी ताकत कुछ और ही है। उन्होंने कहा कि हिंदुस्तान जो भी करेगा, दुनिया उसे गौर से देखती है। वह ‘कंस्ट्रक्शन टेक्नोलॉजी इंडिया 19’ कार्यक्रम को संबोधित कर रहे हैं। इससे पहले शुक्रवार को अभिनंदन के देश में लौटने पर पीएम मोदी ने ट्वीट कर उनके साहस की सराहना की थी।

पाकिस्तान को भारत के वीर सपूत विंग कमांडर अभिनंदन को 59 घंटे बाद शुक्रवार को भारत को सौंपना पड़ा। रात 9.20 बजे वतन लौटने के साथ ही अभिनंदन के शौर्य की कहानी भारतीय सेना के इतिहास में अमर हो गई। अभिनंदन जब लौटे, तो उनके चेहरे और हावभाव को देखकर साफ दिख रहा था कि उन्होंने पाकिस्तान को भारत के साहस का परिचय बखूबी करा दिया है।

ताते चलें कि पुलवामा में 14 फरवरी को 40 जवानों के शहीद होने का बदला लेने के लिए वायुसेना ने 26 फरवरी को पाकिस्तान के बालाकोट में जैश के आतंकी अड्डे तबाह किए थे। उसके जवाब में पाक वायुसेना ने 27 फरवरी को एफ-16 लड़ाकू विमान से जम्मू-कश्मीर में भारतीय सैन्य ठिकानों पर हमला किया था। तभी विंग कमांडर अभिनंदन ने पाकिस्तानी वायुसेना के विमानों को खदेड़ा और एक एफ-16 को मार गिराया था।

इस दौरान उनका मिग-21 क्रैश होने के कारण वह विमान से कूद गए थे, लेकिन वह इलाका पाक अधिकृत कश्मीर का था। जांबाज अभिनंदन पर वहां हमला किया गया, लेकिन उन्होंने हौसला नहीं खोया। भारत माता की जय के नारे लगाने के साथ ही उन्होंने साहस व संयम का परिचय देते हुए हवाई फायर कर जान बचाई।

अपने पास के मौजूद दस्तावेज वह निगल गए, लेकिन दुश्मन के हाथ में नहीं पड़ने दिए। इसी बीच पाक सेना पहुंची और उन्हें भीड़ से छुड़ाकर अपने कब्जे में ले लिया। जब तक पाकिस्तान की हिरासत में रहे, उन्होंने पहचान के नाम पर सिर्फ नाम व रैंक बताई और कोई भी जानकारी दुश्मन को नहीं दी।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।