श्रावण मास में 10 शुभ काम जरूर करना चाहिए #news4
July 5th, 2022 | Post by :- | 87 Views
हिन्दी कैलेंडर के अनुसार सावन / श्रावण (Shravan Maas) पांचवां हिन्दू महीना होता है। सावन आमतौर पर जुलाई और अगस्त के दौरान पड़ता है। जनमानस में इसे सावन और श्रावण मास के नाम से जानते हैं। इस वर्ष श्रावण मास (Sawan 2022) 14 जुलाई से आरंभ हो रहा है और 12 अगस्त को श्रावण मास का अंतिम दिन रहेगा।
हिन्दू कैलेंडर में श्रावण मास सबसे शुभ महीना माना गया है और भगवान शिव (Lord Shiva) जी को प्रसन्न करने का यह सबसे खास समय है। इस पूरे मास में भगवान शिव की पूजा-आराधना का विशेष विधान है।

यहां जानिए 10 खास काम जो हमें श्रावण मास में अवश्‍य करने चाहिए-

1. श्रावण मास में जल में काले तिल मिलाकर शिवलिंग का अभिषेक करें व ‘ॐ नम: शिवाय’ मंत्र का जप करें। इससे मन को शांति मिलेगी।
2. श्रावण मास में गरीबों को भोजन कराएं। इससे घर में कभी अन्न की कमी नहीं होगी और पितरों की आत्मा को शांति मिलेगी।
3. श्रावण मास में घर में पारद के शिवलिंग की स्थापना योग्य ब्राह्मण से सलाह कर स्थापना कर प्रतिदिन पूजन कर सकते हैं। इससे आमदनी बढ़ने के योग बनते हैं।
4. श्रावण मास में माह भर आटे से 11 शिवलिंग बनाएं व 11 बार इनका जलाभिषेक करें। इस उपाय से संतान प्राप्ति के योग बनते हैं।
5. शिवलिंग का 101 बार जलाभिषेक करें।
साथ ही मंत्र- ‘ॐ हौं जूं सः। ॐ भूर्भुवः स्वः। ॐ त्रयम्बकं यजामहे सुगंधिं पुष्टिवर्धनम्। उर्व्वारुकमिव बन्धानान्मृत्यो मुक्षीय मामृतात्। ॐ स्वः भुवः भूः ॐ। सः जूं हौं ॐ।’ का जप करते रहें। इससे बीमारी ठीक होने में लाभ मिलता है।
6. श्रावण मास में 21 बिल्व पत्रों पर चंदन से ‘ॐ नम: शिवाय’ लिखकर शिवलिंग पर चढ़ाएं। इससे इच्छाएं पूरी हो सकती हैं।
7. श्रावण में भगवान शिव का ध्यान करते हुए मछलियों को आटे की गोलियां खिलाएं। इससे धन की प्राप्ति होती है।
8. श्रावण मास में भगवान शिव को तिल व जौ चढ़ाएं। तिल चढ़ाने से पापों का नाश व जौ चढ़ाने से सुख में वृद्धि होती है।
9. शादी-विवाह में यदि अड़चन आ रही है तो श्रावण मास में शिवलिंग पर केसर मिलाकर दूध चढ़ाएं। जल्दी ही विवाह हो सकता है।
10. श्रावण मास में नंदी (बैल) को हरा चारा खिलाएं। इससे जीवन में सुख-समृद्धि आएगी और परेशानियों का अंत होगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।