वन काटुओं ने काटे खैर के पेड़
March 13th, 2019 | Post by :- | 47 Views

इन्दौरा विस क्षेत्र के अंतर्गत पंचायत मलाहड़ी के एक गांव पनियाला में अवैध कटान का मामला उजागर हुआ है। गांव के ही कुछ लोगों ने आरोप लगाया कि हमारे गांव में अवैध रूप से सैंकड़ो पेड़ काट दिए गए हैं लेकिन वन विभाग की तरफ से इस मामले पर कोई कार्यवाही नही की गई ।

स्थानीय निवासी बलविंदर सिंह उर्फ बंटी ने बताया कि मैंने वन विभाग के अफसरों को भी इसके बारे में बताया,लेकिन आज तक कोई भी कार्यवाही इस मामले पर नहीं की गई।बलविंद्र सिंह ने बताया कि उसने एक शिकायत पत्र पुलिस विभाग को भी दिया था जो कि गांव के रसूखदार लोगो के दवाब के कारण मुझे वापिस लेना पड़ा। उन्होंने कहा कि इनके द्वारा मुझे धमकियां भी दी गई कि हम लोग तुम्हारे ऊपर कोई आरोप लगाकर तुम्हे फसा देंगे।
पनियाला गांव के ही रूपनेश सिंह ने बताया कि सैंकड़ो पेड़ ठेकेदारों द्वारा काट लिए गए हैं लेकिन विभाग द्वारा इन पर कोई भी कार्यवाही अमल में नही लाइ जाती।

पनियाला के ही रमेश चंद ने वन विभाग व पंचायत प्रतिनिधियों व ठेकेदारों पर मिलीभगत का आरोप लगाया ।

जब इस सारे मामले के संदर्भ में पंचायत के उपप्रधान से संपर्क किया गया तो उन्होंने इस मामले पर किसी भी तरह का ब्यान देने से मना कर दिया।

वहीँ जब आरोपी ठेकेदार से इस विषय मे पूछा गया तो उसने बताया कि हमने विभाग से परमिशन लेकर ही कटान का कार्य किया है। परंतु किसी भी प्रकार का अवैध कटान हमारे द्वारा नही किया गया । यह आरोप निराधार है।

इस मामले के सन्दर्भ में जब वन विभाग सर्कल इन्दौरा के बी ओ हरबंस लाल से बात की गई तो उन्होंने जानकारी देते हुए बताया कि लकड़ी का कटान के लिए ठेकेदारों ने विभाग से परमिशन ले रखी है और विभाग द्वारा मलकियत भूमि पर ही ठेकेदार विभाग द्वारा अंकित पेडो का ही कटान हो सकता है। सरकारी भूमि पर कटान की किसी को अनुमति नही है। यदि किसी ठेकेदार ने ऐसा किया है तो उक्त ठेकेदार के खिलाफ उचित बनती कर्यवाही की जाएगी।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।