18 मार्च से उड़ान-टू की चंडीगढ़ से शिमला के लिए हाेगी नियमित उड़ानें
March 16th, 2019 | Post by :- | 85 Views

शिमला से चंडीगढ़ के लिए उड़ान-टू की नियमित उड़ानें सोमवार से शुरु हाे रही हैं। यह उड़ानें चंडीगढ़ से शिमला अाैर शिमला से चंडीगढ़ के लिए शुरु की जा रही हैं। हफ्ते में छह दिन लाेग इस सेवा का लाभ उठा सकेंगे। रविवार काे हेलिकाॅप्टर की हवाई सेवा बंद रहेगी। हेलिकाॅप्टर की यह उड़ान माैसम पर भी निर्भर करेगी।

उड़ान-टू के 15 दिन के सफल ट्रायल के बाद चंडीगढ़ से शिमला के लिए उड़ान-टू की रेगुलर फ्लाइट्स शुरु करने का निर्णय लिया गया है। अभी हेलिकाप्टर की यह उड़ान चंडीगढ़ से शिमला के बीच साेमवार, बुधवार अाैर शुक्रवार काे हाे रही है। साेमवार से अब इसे हफ्ते में छह दिन किया जा रहा है। रविवार काे अवकाश वाले दिन यह सेवा बंद रहेगी।

शिमला से चंडीगढ़ के लिए नियमित उड़ान हाेने से एक अाेर जहां पर्यटन काे बढ़ावा मिलेगा, वहीं लाेगाें काे भी अाने जाने में काफी सुविधा हाेगी। लाेग पवनहंस की वेबसाइट पर अाॅनलाइन बुकिंग कर सकते हैं। चंडीगढ़ से उड़ान भरने का समय सुबह 10 बजे रहेगा। शिमला एयरपोर्ट पर यह हेलिकॉप्टर 10.20 पर लैंड करेगा। इसी तरह शिमला से सुबह 10.55 पर हेलिकॉप्टर उड़ान भरेगा, चंडीगढ़ में यह 11.20 पर लैंडिंग करेगा।
एक महीने के बाद भुंतर अाैर धर्मशाला के लिए शुरु होंगी उड़ानें

शिमला में उड़ान सेवा के सफल परीक्षण के बाद शिमला के लिए नियमित उड़ानें शुरु करने की बात कही गई थी। इस सेवा काे साेमवार से शुरु किया जा रहा है। शिमला में नियमित उड़ाने के रिस्पाॅन्स काे देख कर कंपनी शीघ्र इन दाेनाें शहराें के लिए हवाई सेवा शुरु करेगी। उड़ान -टू सेवा के शुभारंभ अवसर पर मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने इस सेवा काे कुल्लू अाैर धर्मशाला के लिए शुरु किए जाने की बात कही थी। एक महीने के बाद इस सेवा काे यहां के लिए भी शुरु कर दिया जाएगा।
2880 रुपए खर्च करके 20 मिनट में पहुंच सकेंगे शिमला

केंद्र सरकार ने इस सेवा का किराया तय किया है। लाेग 2880 रुपए खर्च करके 20 मिनट में शिमला अाैर चंडीगढ़ पहुंच सकेंगे। भुंतर अाैर धर्मशाला के लिए इसका किराया अलग से तय किया जाएगा। संभावना जताई जा रही है कि यहां के लिए अांधे घंटे की उड़ान का किराया 3000 से लेकर 3500 रुपए तक हाे सकता है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।