IIT मंडी ने शुरू किए 2 नए विषय, अब ऑप्टिकल एवं माइक्रोवेव रिमोट सेंसिंग से होगी हिमालय क्षेत्र की निगरानी
March 18th, 2019 | Post by :- | 65 Views

आईआईटी मंडी में जियोलॉजी एवं जियो मॉर्फोलॉजी विषय शुरू की जा रही है। दोनों नए विषयों को हिमालय क्षेत्र में होने वाले परिवर्तनों व भूकंप जैसी स्थितियों को समझने के लिए शुरू किया जा रहा है। साथ ही ऑप्टिकल एवं माइक्रोवेव रिमोट सेंसिंग से हिमालय क्षेत्र की निगरानी की जा सकती है।

जियोलॉजी और जियोमॉर्फोलॉजी कोर्स का मकसद छात्रों को जियोलॉजी, चट्टान बनने, चट्टान के प्रकार और जियोमॉर्फोलॉजिकल फीचर्स के बुनियादी कंसेप्ट के बारे में जानकारी देना है। इसमें पृथ्वी की सतह बनने की प्रक्रिया को गहराई से समझने के लिए बुनियादी जानकारी दी जाएगी। कोर्स में जियोलॉजी और जियोमॉर्फोलॉजी दो मुख्य थीम पर केंद्रित जानकारियां दी जाएंगी।

 

इसके तहत पृथ्वी के निर्माण, प्लेट टेक्टोनिक्स, चट्टान के प्रकार, चक्रीय विकास के साथ विभिन्न प्रकार की चट्टानों के मुख्य खनिजों, उनकी उपलब्धता, कमजोरी और गुण आदि को शामिल किया गया है। साथ ही, पृथ्वी के विभिन्न फीचर्स बनने के बारे में और उन्हें नियंत्रित करने वाली परिघटनाओं के बारे में सीखने का अवसर मिलेगा। यह दोनों कोर्स एमएस, एमटेक और पीएचडी स्तर पर होंगे।

आईआईटी में इन्हें दो नए इलेक्टिव कोर्स के रूप में शुरू किया जाएगा। इसके लिए आईआईटी प्रबंधन की ओर से अमेरिका के विजिटिंग फैकल्टी चैपमैन यूनिवर्सिटी, स्कूल ऑफ लाइफ एवं इन्वायरनमेंटल साइंसेज, स्मिड कॉलेज ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी, कैलिफॉर्निया के प्रो. रमेश पी सिंह को तैनात किया गया है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।