कांगड़ा बस अड्डे पर 24 घंटे तक भूखे फंसे रहे 14 लोग, देर रात पहुंचा प्रशासन तो ली राहत की सांस
March 23rd, 2020 | Post by :- | 250 Views

काेरोना वायरस से बचाव के लिए प्रशासन ने लॉकडाउन कर दिया है। लेकिन कई जगह लोग फंस गए हैँ। कांगड़ा बस अड्डे में शनिवार रात से 14 लोग फंसे हुए थे। जनता होने के कारण 24 घंटे तक खाना भी नसीब नहीं हुआ, रविवार रात 11:30 बजे कांगड़ा प्रशासन को इस संबंध जानकारी मिली तो उन तक कुछ मदद पहुंच सकी। कांगड़ा बस स्टैंड में जम्मू कश्मीर व उत्तर प्रदेश के 14 लोग घर जाने के लिए बसों के इंतजार में थे, लेकिल जनता कर्फ्यू होने के कारण ये शनिवार रात से ही कांगड़ा बस स्टैंड में बैठे हुए थे। पूरे देश में जनता कर्फ्यू होने के कारण किसी भी राज्य की बसें ना आने जाने के कारण इनकी परेशानी बढ़ गई थी। 14 लोगों में 13 जम्मू कश्मीर के विभिन्न जिलों से संबंधित थे जबकि एक व्यक्ति उत्तर प्रदेश से संबंधित था।

जनता कर्फ्यू होने के कारण कांगड़ा बस स्टैंड भी पूर्णतया खाली व बंद था, जिससे 14 लोग खाने के लिए भी परेशान हो गए थे। ऐसे में कांगड़ा के एक व्यक्ति ने रविवार रात्रि तकरीबन 11:30 बजे कांगड़ा प्रशासन को इसकी सूचना दी कि कांगड़ा बस स्टैंड में तकरीबन 14 लोग भूखे बैठे हैं और अपने राज्यों में जाने के लिए बसों के इंतजार में हैं। ऐसे में कांगड़ा उपमंडल अधिकारी जतिन लाल व नायब तहसीलदार अपूर्व शर्मा रात्रि 11:30 बजे ही एकाएक कांगड़ा बस स्टैंड पहुंचे और इनसे बात की।

नायब तहसीलदार अपूर्व शर्मा ने बताया यह लोग अपने घरों को जाने के लिए कांगड़ा बस स्टैंड में बसों के इंतजार में थे परंतु जनता कर्फ्यू होने के कारण कोई भी बस नहीं चल रही थी जिससे यह 14 लोग शनिवार रात्रि ही कांगड़ा बस स्टैंड में बैठे हुए थे। उन्होंने बताया प्रशासन ने इनकी पहले खाने की व्यवस्था की व उसके बाद इन्हें कांगड़ा मंदिर सराय में ठहराया गया। उन्होंने बताया सुबह जम्मू कश्मीर के 13 लोग जम्मू कश्मीर रवाना हो गए हैं, जबकि उत्तर प्रदेश का एक व्यक्ति अपने घर जाने के लिए बस के इंतजार में है। उन्होंने लोगों से भी अपील की है संकट की इस घड़ी में कोई भी व्यक्ति परेशान व फंसा हुआ दिखे तू इसकी सूचना क प्रशासन को दें।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।