मिलिए दुनिया के उन लोगों से जो अपने ही अंतिम संस्कार में जीते जी हुए शरीक !
March 25th, 2019 | Post by :- | 114 Views

अपने अंतिम संस्कार में – ये दुनिया अजीबो-गरीब किस्सों से भरी हुई है. जहां कई लोग मौत के बाद की दुनिया को करीब से देखने के दावा करते नजर आते हैं तो वहीं कई ऐसे लोग भी हैं जो अपने ही अंतिम संस्कार में जीते जी शरीक होने का दावा करते हुए नजर आते हैं.

ऐसे लोगों की बातों को सुनकर हैरत जरूर होता है साथ ही लगता है कि ऐसा कहने वाले लोगों की शायद दिमागी हालत ठीक नहीं है.

लेकिन आज हम आपको दुनिया के ऐसे 5 लोगों के बारे में बताने जा रहे हैं जो अपने ही अंतिम संस्कार में शामिल हुए और वो भी जिंदा.

अपने अंतिम संस्कार में – 

1- नोएला रुकुंदो

ऑस्ट्रेलिया की रहनेवाली नोएला रुकुंदो नाम की महिला को उसका पति जान से मारना चाहता था और इसके लिए उसने किडनैपर्स की मदद ली थी. किडनैपिंग के बाद किडनैपर्स ने रुकुंदो को बता दिया कि उसका पति ही उसे जान से मरवाना चाहता है.

किडनैपर्स ने उसके पति से बात करके बताया कि वो कैसे रुकुंदों की डेड बॉडी को ठिकाने लगाएंगे. इसके बाद किडनैपर्स ने रुकुंदो से कहा कि वो उसे नहीं मारेंगे क्योंकि वो औरतों और बच्चों को नहीं मारते.

किडनैपर्स के चंगुल से आजाद होने के बाद रुकुंदो 3 दिन बाद ऑस्ट्रेलिया लौटीं, जहां उसके पति ने पहले से ही कम्युनिटी के लोगों को बता रखा था कि रुकुंदो की एक एक्सिडेंट में मौत हो गई और उसने पहले ही अपनी पत्नी के अंतिम संस्कार की तैयारी कर ली थी.

खुद का अंतिम संस्कार खत्म होने से ठीक पहले रुकुंदो पहुंच गईं, जहां उन्हें देखकर सभी लोग घबरा गए. देर ना करते हुए रुकुंदो ने पुलिस बुला ली जिसके बाद अपनी पत्नी की हत्या की साजिश रचने के लिए उसके पति को 9 साल की सजा मिली.

2- कॉंग चैन्नेंग

कॉंग चैन्नेंग नाम  का एक व्यक्ति मानसिक बीमारी से पीड़ित था जिसके चलते उनका परिवार उसे घर में चेन से बांधकर रखता था.

एक दिन कॉंग घर से भागने में कामयाब हो गया और कुछ दिन बाद पास की नदी में एक सड़ती हुई लाश मिली जिसे कॉंग की लाश समझकर परिवार वाले अंतिम संस्कार की तैयारी करने लगे.

लेकिन अंतिम संस्कार में मौजूद लोगों के होश तो तब उड़ गए जब उन्होंने कॉंग को जीते जी वहां देख लिया. उन्हें देखकर सभी को लगा कि उन्होंने कॉंग का भूत देख लिया है. हालांकि कॉंग के चिल्लाने पर उसके पिता ने उन्हें पहचान लिया.

3 गिल्बर्ट आराउजो

साल 2012 में भी एक ऐसा ही मामला सामने आया था जब गिल्बर्ट आराउजो नाम के एक शख्स की मौत की खबर पुलिस ने उसके भाई जोस मार्कोस को फोन पर दी थी.

मार्कोस अपने भाई की डेड बॉडी लेने पुलिस स्टेशन पहुंचा जहां पुष्टि हुई कि मृत आदमी गिल्बर्ट आराउजो ही था. इसके बाद उसके परिवार ने आराउजो का अंतिम संस्कार रखा लेकिन वहां अचानक आराउजो को खड़ा देखकर लोग डर के मारे इधर-उधर भागने लगे.

तब आराउजो ने सबको शांत कराया और बताया कि वो जिंदा हैं. आराउजो ने परिवारवालों से कहा कि उसे अपने अंतिम संस्कार की खबर उसके दोस्तों से मिली और वो यहां चले आए.

4 फेलिक्स ब्रीजल

अमेरिका के रहने वाले फेलिक्स ब्रीजल ने अपने जीते जी खुद के अंतिम संस्कार का आयोजन किया. फेलिक्स ने शादी नहीं की थी और ना ही उनके ज्यादा दोस्त थे. ऐसे में वो जानना चाहते थे कि उनकी मौत के बाद आखिर लोग उनके बारे में क्या कहेंगे.

बस यही जानने के लिए साल 1938 में ब्रीजल ने अजीबो-गरीब तरीके से जीते जी अपना अंतिम संस्कार कराया जिसमे करीब 8000 लोग शामिल हुए थे.

5- ड्रेगन और ड्रेगिका मेरिक

बोस्निया के रहने वाले ड्रेगन और ड्रेगिका मेरिक नाम के एक जोड़े को ये पसंद नहीं था कि उनकी मौत के बाद कोई और उनके अंतिम संस्कार का इंतजाम करे या खर्चा उठाए. इसलिए उन दोनों ने जीते जी अपने अंतिम संस्कार की व्यवस्था कर ली.

दरअसल इस कपल की कोई संतान नहीं थी इसलिए वो मरने से पहले अपने लिए एक उचित अंतिम संस्कार का आयोजन करना चाहते थे.

मेरिक नहीं चाहते थे कि उनके अंतिम संस्कार के लिए किसी और को खर्चा उठाना पड़े. इसलिए दोनों ने अपनी कब्र खुद खरीदी और फ्यूनरल के लिए लोगों को इनविटेशन भी भेजे.

गौरतलब है इनमें से कुछ लोगों ने अपने अंतिम संस्कार में जीते जी पहुंचकर वहां मौजूद लोगों को हैरत में डाल दिया तो किसी ने खुद अपने अंतिम संस्कार की व्यवस्था करके दुनिया भर में सुर्खियां बटोर ली.

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।