सघन बागवानी के गुण सीखने 20 सदस्यीय दल नेरी रवाना
June 24th, 2019 | Post by :- | 287 Views

एसडीएम डॉ. सुरेश जसवाल ने हरी झंडी दिखाकर किया रवाना
कम जमीन में ज्यादा पौधे लगाने से सुधरेगी किसानों की आर्थिकी: अशोक
ऊना (24 जून)- जिला ऊना के पांचों विकास खंडों से बीस सदस्यीय दल सघन बागवानी के गुर सीखने हमीरपुर रवाना हुआ। इन बागवानों को जिला हमीरपुर के नेरी स्थित वाईएस परमार बागवानी व वानिकी विश्विद्यालय में 4 दिन तक कम जमीन पर सघन खेती का प्रशिक्षण दिया जाएगा। बीस सदस्यीय दल को एसडीएम ऊना डॉ. सुरेश जसवाल ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। उन्होंने विभाग द्वारा बागवानों के लिए किए जा रहे प्रयासों को सराहा तथा उम्मीद जताई कि प्रशिक्षण से किसान लाभान्विंत होंगे और किसान उन तरीकों को अपनाकर अपनी आर्थिकी को मजबूत कर सकेंगे।
इस मौके पर बागवानी उपनिदेशक ऊना अशोक धीमान ने बताया कि बागवानों को गर्म क्षेत्रों में सघन बागवानी का प्रशिक्षण प्रदान किया जाएगा। ऊना जिला में आम और अमरूद की पैदावार अधिक होती है, लेकिन किसानों के प्रशिक्षित न होने के कारण उनको इन फसलों से ज्यादा मुनाफा नहीं मिल पाता। इसलिए जिला के पांचों विधानसभा क्षेत्रों से लोगों का चयन कर उन्हें प्रशिक्षित किया जा रहा है। इसमें किसानों को कम जमीन पर ज्यादा पौधे लगाकर, अधिक फसल लेने संबंधी बताया जाएगा।
उन्होंने कहा कि इस प्रशिक्षण के दौरान बागवानों को प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के बारे में भी अवगत करवाया जाएगा तथा सघन खेती के लिए टपक सिंचाई की जानकारी भी किसानों को दी जाएगी। इस सिंचाई योजना में भी सरकार किसानों को अनुदान उपलब्ध करवाती है। धीमान ने बताया कि उनकी प्राथमिकता बागवानों के लिए उच्च गुणवत्ता के बीज उपलब्ध करवाना है ताकि इससे अच्छी पैदावार हो और किसानों की आर्थिकी में सुधार हो सके। डॉ. अशोक धीमान ने कहा कि नींबू और किन्नू की फसल के लिए ऊना की भूमि काफी उपजाऊ है।
-00-

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।