कांग्रेस के 30 पदाधिकारियों ने दिल्‍ली में थामा आप का दामन #news4
March 21st, 2022 | Post by :- | 119 Views

सोलन : पंजाब में जीत के बाद जोश से लबरेज आम आदमी पार्टी की हिमाचल में भी बढ़ती सक्रियता के बाद कांग्रेस के लिए एक के बाद एक झटके मिल रहे हैं। कुछ दिन पहले कांग्रेस के प्रदेश सचिव व जिला परिषद सोलन के पूर्व चेयरमैन धर्मपाल चौहान ने अपने पद से इस्तीफा देकर दिल्ली में आप का दामन थाम लिया था। अब सोमवार को फिर से प्रदेश कांग्रेस को जोरदार झटका लगा है। प्रदेश के विभिन्न जिलों से कांग्रेस के 30 छोटे-बडे़ नेताओं ने यूथ कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष मनीष ठाकुर के नेतृत्व में कांग्रेस का हाथ छोड़कर दिल्ली में आम आदमी पार्टी का दामन थाम लिया।

पार्टी में युवाओं की अनदेखी से नाराज युवा नेताओं ने अपने भविष्य को देखते हुए आप में शामिल होने का निर्णय लिया। कसौली विस क्षेत्र से बीडीसी सदस्य भानु शर्मा ने अपने जिला कांग्रेस सचिव पद से इस्तीफा दे दिया है। वहीं कसौली कांग्रेस के युवा नेता व प्रदेश कांग्रेस के सचिव साजिद अली समेत कई जिलों के पदाधिकारी इसमें शामिल हैं। वहीं मनीष ठाकुर पांवटा साहिब के युवा नेता हैं जो संगठन में प्रदेश से लेकर राष्ट्रीय स्तर तक विभिन्न पदों पर रहे हैं।

बता दें कि, सोलन के कोटलानाला स्थित एक निजी आवास में रविवार को हुई एक गोपनीय बैठक में मनीष ठाकुर के नेतृत्व में पार्टी में युवा तुर्क की अनदेखी पर चर्चा हुई और अपने भविष्य को देखते हुए दिल्ली में आप में शामिल होने का निर्णय लिया गया। बताया जा रहा है कि बैठक में मौजूद सभी 30 पदाधिकारी व कार्यकर्ता हर जिले से हैं। बैठक खत्म होने के बाद रात को ही सभी दिल्ली रवाना हो गए थे। आज उन्होंने दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री एवं हिमाचल में चुनाव प्रभारी सत्येंद्र जैन के साथ मुलाकात कर भविष्य को लेकर मंत्रणा की और उसके बाद सभी को पार्टी का पटका पहनाकर संगठन में शामिल किया गया। उसके बाद आप मुख्यालय में ही प्रेसवार्ता में भी शामिल हुए। एक पदाधिकारी ने बताया कि प्रेसवार्ता के बाद दिल्ली के मुख्यमंत्री एवं आप के राष्ट्रीय कन्वीनर अरविंद केजरीवाल से भी मुलाकात करेंगे।

कांग्रेस में अनदेखी से थे नाराज

दिल्ली गए पदाधिकारियों ने बताया कि पिछले काफी समय से पार्टी में युवाओं की अनदेखी हो रही है। पार्टी में नेता पुत्रों को ही तरजीह दी जा रही है। संगठन में प्रदेश से लेकर ऊपर तक कोई भी आम कार्यकर्ता काे सुनने वाला नहीं है। ऐसे में पार्टी से किनारा कर लेना ही बेहतर विकल्प था। उनका कहना था कि पार्टी में पिछले दो दशकों से ईमानदारी के साथ काम करने के बावजूद कोई पूछ नहीं है। प्रदेश भर में किसी भी सीट से संघर्षशील युवा कार्यकर्ताओं को टिकट के समय मुंह फेर लिया जाता है। ऐसे में आम आदमी पार्टी में भविष्य को देखते हुए, उसमें शामिल होने का सामूहिक निर्णय लिया गया था। दिल्ली में आप नेताओं के साथ बैठक से पहले कांग्रेस मुख्यालय में कांग्रेस नेताओं से मुलाकात की, लेकिन सार्थक चर्चा न होने के बाद आप के कार्यालय में जाकर संगठन में शामिल हुए।

 

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।