काँगड़ा के लोध्वां में गुज्जर समुदाय ने की कार्यक्रम में शिरकत
February 24th, 2019 | Post by :- | 397 Views

जिला काँगड़ा के कस्वा लोध्वां  पठानियाँ रिजॉर्ट मेंऑल इंडिया गुज्जर महा सभा हिमाचल यूनिट की ओर से गुज्जर महा सम्मेलन का आयोजन  कासम दीन ऑल इंडिया गुज्जर महा सभा ओर हसन दीन पंजाब और हिमाचल के संजोयक की अध्यक्षयता में सम्पन हुआ। जिसमें हिमाचल ओर पंजाब के कोने कोने से आये गुज्जरों ने भाग लिया। जिसमे गुज्जर समुदाय को आ रही समस्याओं  के बारे में चर्चा की गई और कहा कि जल्द ही गुज्जर समुदाय केन्द्र और प्रदेश सरकार को अ रही समस्याओं और हक की मांग उठाएगा।

उन्होंने कहा कि अनुसूचित जन जाती के वन आश्रित अधिकार अधिनियन 2006 fra सारे हिमाचल में लागू करे। और केंद्र ओर प्रदेश में अनुसूचित जन जाती को 7.5 प्रतिशत कोटा ओर उसमे गुज्जर समुदाय को 3.5 प्रतिशत आरक्षण दिया जाए। उन्होंने कहा कि पंजाब और हिमाचल में गुज्जर समुदाय को pmky के तहत पक्के रिहायशी मकान बनाये जाए।उन्होंने कहा कि गुज्जर समुदाय एक घमन्तु जन जाती है इसकी घुमंतू  जीवन शैली और जानकारी के अभाव के कारण  समुदाय के लोगो का स्थानीय  निकास जैसे ग्राम पंचायतों में जन्म मृत्यु ओर शादी  पंजीकृत न होने से  सैकड़ों लोगो का रिकार्ड दुरुस्त नही है ।

इस समस्या ने हिमाचल  पंचायती राज कानून में विशेष प्रवधान किया जाए ताकि लोगो के रिकार्ड दुरुस्त किए जाए। जहाँ जहाँ मुस्लिम गुज्जर समुदाय के लोग रहते है वहा उनके लिये सरकार कब्रिस्थान की व्यवस्था करे और जहां हैं वहां पर चारदीवारी का प्रबंध करे। हिमाचल पंजाब में जहाँ मुस्लिम गुज्जर समुदाय की आबादी अधिक है उनके लिए सरकारी स्कूलों में उर्दू की शिक्षा आरंभ की जाए। उन्होंने कार्यक्रम के उपरांत सभी गुज्जर समुदाय के लोगो ने पुलवामा में शहीद हुए सैनिकों को के लिए 2 मिनट का मौन रख कर श्रद्धांजलि दी।

इस अवसर पर कांग्रेस कमेटी प्रदेश चेयरमेन अल्पसंख्यक विभाग सादिक खान, काँगड़ा जिला परिषद बाइस चेयरमैन विशाल चंबियाल, जामिया मिलिया प्रोफेसर डॉ फेज, चौधरी मजाहिर राणा अध्यक्ष ऑल इंडिया  गुज्जर महा सभा, चौधरी इरशाद उपाध्यक्ष, चौधरी नसीम, चौधरी, इमरान, करी इमाम, हाजी शुक्र दीन, लाल कसम दीन, रोशन  मोहमद अली आदि उपस्तिथ रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।