ऊना में धूमधाम से मनाया गया 73वां गणतंत्र दिवस, शिक्षा मंत्री गोविंद ठाकुर ने फहराया राष्ट्रीय ध्वज #news4
January 26th, 2022 | Post by :- | 125 Views

ऊना : जिला मुख्यालय के रामलीला मैदान में आज देश के 73 वें गणतंत्र दिवस के अवसर पर जिला स्तरीय समारोह का आयोजन किया गया। इस मौके पर प्रदेश के शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर ने बतौर मुख्य अतिथि शिरकत करते हुए राष्ट्रीय ध्वज फहराया। वहीं उन्होंने भव्य परेड का निरीक्षण किया और मार्च पास्ट की सलामी भी ली। इस मौके पर वित्त आयोग के अध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती, एचपीएसआईडीसी उपाध्यक्ष प्रोफेसर रामकुमार, डीसी राघव शर्मा और एसपी अर्जित सेन ठाकुर समेत तमाम विभागों के अधिकारी कर्मचारी और बड़ी संख्या में गणमान्य लोग भी मौजूद रहे। कार्यक्रम के दौरान विभिन्न विभागों की आकर्षक झांकियों के माध्यम से प्रदेश सरकार की विभिन्न उपलब्धियां दिखाई गई। वहीं सांस्कृतिक कार्यक्रमों में भी विभिन्न सांस्कृतिक दलों ने खूब वाहवाही बटोरी।

आज ऊना के बाल स्कूल मैदान में 73 वां गणतंत्र दिवस हर्षोल्लास से मनाया गया, इस अवसर पर हिमाचल प्रदेश के शिक्षा मंत्री गोबिंद ठाकुर ने राष्ट्रीय ध्वज फहराकर परेड का निरीक्षण किया। शिक्षा मंत्री ने पुरुष पुलिस, महिला पुलिस, होमगार्ड और एनसीसी के लड़के व लड़कियों की टुकड़ियों द्वारा किये गए मार्च पास्ट की सलामी भी ली। इस अवसर पर स्वास्थ्य विभाग, कृषि विभाग, बागवानी विभाग और महिला एवं बाल विकास विभाग ने झांकियां निकालकर अपने विभागों की योजनाओं की जानकारी दी। इस दौरान उत्कृष्ट कार्य करने वालों को सम्मानित भी किया गया। गणतंत्र दिवस के अवसर पर शिक्षा मंत्री गोविंद ठाकुर ने अपने संबोधन में प्रदेशवासियों को गणतंत्र दिवस की बधाई दी। उन्होंने प्रदेश सरकार की तमाम उपलब्धियों का बखान किया। इस दौरान उन्होंने प्रमुख रूप से मंगलवार को आयोजित किए गए हिमाचल प्रदेश के पूर्ण राज्यत्व दिवस के मौके पर मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर द्वारा कर्मचारियों समेत समाज के विभिन्न वर्गों के लिए घोषित की गई सौगातों का उल्लेख किया। कोविड के प्रकोप के चलते इस बार स्कूली छात्र छात्राओं ने सांस्कृतिक कार्यक्रमों में हिस्सा नहीं लिया। जिला के तीन सांस्कृतिक दलों ने अपनी प्रस्तुति पेश कर खूब वाहवाही लूटी।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।