बिलासपुर में बनाए जा रहे 75 अमृत सरोवर #news4
June 10th, 2022 | Post by :- | 105 Views

बिलासपुर : वर्षा जल संग्रहण के लिए जिला बिलासपुर में पहली बार व्यापक स्तर पर अभियान चलाया जा रहा है। अभियान के तहत जिला के 75 अमृत सरोवरों के जीर्णाेद्धार के कार्यो को शुरू किया जा रहा है। शुक्रवार को जल शक्ति विभाग की ओर से चलाए जा रहे ‘कैच द रेन’ अभियान की जिलास्तरीय समिति की समीक्षा बैठक उपायुक्त पंकज राय की अध्यक्षता में हुई।

बैठक की अध्यक्षता करते हुए उपायुक्त ने बताया कि अभियान का मुख्य उद्देश्य वर्षा जल का अधिकतम संग्रहण करना तथा वर्षा जल के पुन: चक्र और ग्रे वाटर के पुन: उपयोग और अपशिष्ट जल प्रबंधन के बारे में जागरूकता पैदा करना है। अभियान के दौरान सभी मौजूदा पारंपरिक जल संचयन संरचनाओं की गणना तथा भू टैगिग के साथ-साथ जिलास्तरीय वैज्ञानिक जल संरक्षण योजना विकसित की जा रही है।

पंकज राय ने बताया कि कैच द रेन एक महत्वपूर्ण कार्यक्रम है, जिसकी समीक्षा मुख्य सचिव के अतिरिक्त मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री करते हैं। अभियान के दौरान जिला में 75 अमृत सरोवर का निर्माण आरंभ कर दिया गया है, जिसके लिए 15 अगस्त का लक्ष्य निर्धारित किया है। सभी खंड विकास अधिकारियों को ग्रामीण क्षेत्रों में दूषित पानी के प्रबंधन के लिए किए जाने वाले कार्य के शेल्फ को स्वीकृत कर दिया गया है। उन्होंने सभी कार्यो को तुरंत करने के निर्देश दिए।

बैठक में पारंपरिक जलस्रोतों के नवीनीकरण तथा शहरी क्षेत्रों में दूषित पानी के प्रबंधन, बोर और कुओं को रिचार्ज कर पुन: उपयोगी बनाने जैसी विभिन्न जल संचयन संरचनाओं के निर्माण की भी समीक्षा की। उपायुक्त ने कहा कि पनौल में तालाब की मरम्मत तथा रखरखाव के लिए 70 लाख रुपये स्वीकृत किए हैं।

जलशक्ति विभाग तथा खंड विकास अधिकारियों को इस अभियान को गति देने तथा जल संरक्षण के बारे में लोगों में जागरूकता बढ़ाने के निर्देश दिए। उन्होंने लोगों से अपील की कि वह अपने घरों में भी वर्षा जल के संग्रहण का प्रयास करें। बैठक में जल शक्ति विभाग अधीक्षण अभियंता विजय कुमार, अधिशाषी अभियंता डिजाइन सतीश शर्मा, परियोजना अधिकारी जिला ग्रामीण विकास अभिकरण राजिद्र गौत्तम, कार्यकारी अधिकारी नगर परिषद उर्वशी वालिया, खण्ड विकास अधिकारी सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी भी उपस्थित रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।