7वीं आर्थिक गणना का कार्य हुआ आरंभ, 30 नवंबर तक किया जाएगा पूर्ण: डीसी
August 31st, 2019 | Post by :- | 158 Views

ऊना 31 अगस्त:- जिला में सातवीं आर्थिक गणना का कार्य 31 अगस्त से आरंभ हो चुका है जिसे 30 नवंबर तक पूर्ण कर लिया जाएगा। यह जानकारी आज उपायुक्त ऊना संदीप कुमार पे सातवीं आर्थिक गणना-2019 के लिए गठित जिला स्तरीय समन्वय समिति की बैठक की अध्यक्षता करते हुए दी।
डीसी ने बताया कि आर्थिक गणना के कार्य के लिए कॉमन सर्विस सैंटर द्वारा नियुक्त प्रगणकों/पर्यवेक्षकों द्वारा घर-घर एवं उद्यमों में जाकर मोबाइल एपलीकेशन के माध्यम से सूचना एकत्रित की जाएगी। उन्होंने बताया कि जिला के पांचों विकास खंडों की 234 ग्राम पंचायतों के 786 गांवों और ऊना, मैहतपुर, संतोषगढ़, गगरेट, दौलतपुर और टाहलीवाल सहित कुल 6 शहरी क्षेत्रों में यह अर्थिक गणना की जाएगी। इसके तहत जिला के सभी प्रतिष्ठानों, उद्यमों व ईकाइयों की गणना की जाएगी जहां कृषि, बागवानी व फसल उत्पादन को छोडक़र अन्य प्रकार की आर्थिक गतिविधियां संचालित की जाती हैं। इसमें वस्तुओं का उत्पादन व सेवाएं प्रदान करने वाली संस्थाएं भी शामिल की जाएंगी। आर्थिक गणना के लिए व्यवसाय की प्रकृति, कामगारों की संख्या, स्वामित्व, वित्तीय स्थिति आदि की सूचना एकत्रित की जाएगी।
आर्थिक गणना का क्या है लाभ
उन्होंने बताया कि एकत्रित सूचना आर्थिक गतिविधियों में शामिल लोगों के जीवन स्तर व उद्यमों की दशा को सुधारने की दिशा में तथा नई नीतियों के निर्माण में निर्णायक की भूमिका अदा करेगी।
डीसी ने की सहयोग की अपील
डीसी ने जिला के नागरिकों, व्यापारिक एवं औद्योगिक ईकाइयों व अन्य उद्यमों के मालिकों/संचालकों से सहयोग की अपील करते हुए कहा कि वे आर्थिक गणना के लिए नियुक्त प्रगणक /पर्यवेक्षक को सही जानकारी उपलब्ध करवाएं ताकि गणना का कार्य निर्धारित समय सीमा में गुणवत्ता के साथ पूर्ण किया जा सके। उन्होंने उपलब्ध करवाई गई जानकारी को पूर्णतया गोपनीय रखने का अश्वासन दिया।
इस अवसर पर महाप्रबंधक जिला उद्योग केंद्र ऊना अंशुल धीमान, जिला सांख्यिकी अधिकारी राज कुमार, जिला पंचायत अधिकारी रमन शर्मा सहित अन्य विभागों के अधिकारी उपस्थित रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।