हिमाचल में आठ करोड़ की GST चोरी, नान वोवन कैरी बैग निर्माताओं ने 5% दर्शाकर 13% लिया रिफंड #news4
October 7th, 2022 | Post by :- | 89 Views

नाहन : GST Scam, हिमाचल प्रदेश राज्य आबकारी एवं कराधान विभाग साउथ जोन इंफोर्समेंट (South Zone Enforcement) परवाणू की टीम ने नान वोवन कैरी बैग्स (non woven carry bags) यानी गैर बुने हुए बैग निर्माताओं को जीएसटी (GST) में हेराफेरी करने पर आठ करोड़ 29 लाख का जुर्माना लगाया है। साउथ जोन इंफोर्समेंट परवाणू की टीम ने जिला सिरमौर, राजस्व जिला बीबीएन तथा सोलन जिला के नान वोवन कैरी बैग्स निर्माताओं द्वारा किए गए कर चोरी के 70 करोड़ के घोटाले को पकड़ा है। इस घोटाले में हिमाचल प्रदेश में नान वोवन कैरी बैग्स बनाने वाले 200 से अधिक उद्योग शामिल हैं।

सात उद्योगों को जारी किए हैं नोटिस

साउथ जोन इंफोर्समेंट परवाणू के ज्वाइंट कमिश्नर जीडी ठाकुर के नेतृत्व में गहनता से छानबीन करने के बाद इन सात उद्योगों को नोटिस जारी किए हैं। जिला सिरमौर के चार, बीबीएन के दो व सोलन जिला के एक उद्योग को एक माह में जुर्माना भरने के निर्देश दिए गए हैं। शुक्रवार तक विभाग की ओर से पांच निर्माताओं को पांच करोड़ 49 लाख 14 हजार 310 रुपये जुर्माना अदा करने के फाइनल आर्डर जारी कर दिए गए थे, जबकि दो उद्योगों को दो करोड़ 80 लाख 3341 रुपये के आर्डर जारी करने की प्रक्रिया जारी है, जिसे जल्द पूरा कर लिया जाएगा।

पांच प्रतिशत जीएसटी देकर 13 प्रतिशत का रिफंड लिया

साउथ जोन इंफोर्समेंट परवाणू के ज्वाइंट कमिश्नर जीडी ठाकुर ने बताया कि नान वोवन कैरी बैग निर्माताओं ने 31 दिसंबर 2020 तक पांच प्रतिशत जीएसटी दिया तथा सरकार से 13 प्रतिशत रिफंड ले लिया। इन कैरी बैग निर्माताओं ने एडवांस रूलिंग अथारिटी द्वारा दी गई एडवांस रूलिंग की वजह से यह घोटाला किया है। राज्य आबकारी एवं कराधान विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने एडवांस रूलिंग आर्डर पास किया था कि कैरी बैग्स पर पांच प्रतिशत जीएसटी है, जबकि भारत सरकार के राजस्व मंत्रालय की ओर से 31-12-2018 को जारी किए गए आदेश में साफ बताया गया है कि नान वोवन कैरी बैग पर 18 प्रतिशत जीएसटी देय है तथा इसे किसी भी राज्य का कोई भी अधिकारी इसे न कम कर सकता है न अधिक कर सकता है। जब तक केंद्र सरकार इसके लिए अपनी मंजूरी न दे। विभाग ने हिमाचल प्रदेश के जिन नान वोवन कैरी बैग निर्माताओं ने पांच करोड़ 97 लाख 42 हजार 652 का रिफंड लिया है, उसे भी वसूलने के लिए अलग से नोटिस भेजने के लिए प्रक्रिया शुरू कर दी है। इस घोटाले को उजागर करने वाली टीम में सहायक आयुक्त एनएन शर्मा, एसी अश्वनी कश्यप व अश्वनी शर्मा, जांच अधिकारी भूपेंद्र सिंह, रूपिंदर सिंह, गुरबचन सिंह, शशिकांत, मनोज सचदेवा व ध्यान सिंह ने योगदान दिया है। जीडी ठाकुर ने 70 करोड़ से अधिक के घोटाले की पुष्टि करते हुए बताया कि विभाग की ओर से सात उद्योगों को आठ करोड़ 29 लाख 17 हजार 651 रुपये का जुर्माना भरने के निर्देश दिए गए हैं। अभी तक एक उद्योग ने अपना सारा जुर्माना भर दिया है। इसके अतिरिक्त हिमाचल प्रदेश में जिन निर्माताओं ने रिफंड लिया है, उनसे रिफंड सरकारी खजाने में जमा कराने के लिए अलग से नोटिस भेजे जा रहे हैं।

क्या है नान वोवन कैरी बैग

इस बैग की बनावट ने लोगों को हमेशा अपनी ओर आकर्षित किया है। ये बैग न तो किसी प्रकार से पर्यावरण को नुकसान पहुंचाते हैं और न ही इसका कोई और अन्य नुकसान है। इसका बिजनेस भी काफी लाभदायक है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।