ऊना में 15 से 18 आयु वर्ग तक के 94 फीसदी किशोरों को किया गया वैक्सीनेट #news4
January 16th, 2022 | Post by :- | 83 Views

ऊना : स्वास्थ्य विभाग द्वारा 15 से 18 वर्ष आयु वर्ग तक के नव युवाओं को वैक्सीनेट करने के लक्ष्य को 94 फीसदी तक पूरा कर लिया गया है। संक्रमण की तीसरी लहर के बीच हालांकि यह लक्ष्य हासिल करना इसलिए भी आसान नहीं था क्योंकि जिला के सभी शिक्षण संस्थानों को सरकार के आदेशों के बाद बंद कर दिया गया था, लेकिन इसके बावजूद स्वास्थ्य विभाग की विभिन्न टीमों ने प्राथमिकता के आधार पर काम करते हुए 15 से 18 वर्ष आयु वर्ग तक के अधिकतम नवयुवकों को वैक्सीनेट करने के लक्ष्य की तरफ मजबूती से कदम बढ़ाए है। हालांकि 5 जनवरी से 15 जनवरी के बीच इस लक्ष्य को हासिल करने का बीड़ा स्वास्थ्य विभाग की तरफ से उठाया गया था। जबकि पहले ही 5 दिन में 84 फीसदी तक इस लक्ष्य को हासिल भी कर लिया गया था। लेकिन ऐन मौके पर संक्रमण की तीसरी लहर के कारण सभी शिक्षण संस्थान बंद हो गए। लेकिन स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों ने सामंजस्य स्थापित करते हुए टीकाकरण अभियान को जारी रखा।

सीएमओ डॉ रमन शर्मा का कहना है कि विभाग की विभिन्न टीमों ने बेहतरीन काम करते हुए 15 से 18 वर्ष आयु वर्ग तक के बच्चों की वैक्सीनेशन के लक्ष्य को 94 फीसदी तक पूरा कर लिया है। शेष बचे 6ः बच्चों को भी जल्द कवर किया जा रहा है। जिसके लिए 17 और 18 जनवरी को विभाग की तरफ से मॉप अप राउंड रखा गया है। उन्होंने कहा कि विभाग की टीम ने जिला भर के सरकारी और निजी शिक्षण संस्थानों में 15 से 18 वर्ष आयु वर्ग तक के बच्चों को वैक्सीनेट किया है। जिसके तहत 31388 बच्चे टीकाकरण से लाभान्वित किए जा चुके हैं। जिला भर में इस आयु वर्ग तक के 33400 बच्चों को वैक्सीनेशन के लिए चिन्हित किया गया था। वैक्सीनेशन से वंचित रह रहे करीब 22 सौ बच्चों को 17 और 18 जनवरी को छेड़े जाने वाले विशेष अभियान में हर हाल में कवर किया जाएगा। इन बच्चों को शिक्षा विभाग के उपनिदेशक और उनके शिक्षकों के माध्यम से सूचित करते हुए स्कूलों में ही टीकाकरण के लिए बुलाया जा रहा है। इसके बावजूद भी यदि कुछ बच्चे स्कूल नहीं पहुंच पाते हैं तो उन्हें मोबाइल टीम के माध्यम से वैक्सीनेट करने का भी प्रावधान किया गया है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।