सरिया से लदे कंटेनर के पीछे टकराया बाइक सवार, मौके पर हुई दर्दनाक मौत
September 26th, 2019 | Post by :- | 274 Views

औद्योगिक क्षेत्र भटौलीकलां के तहत यूनीकैम चौक के समीप एक दर्दनाक हादसे में बाइक सवार की मौत हो गई। हादसा इतना दर्दनाक था कि मौके पर मौजूद लोगों की रुह कांप उठी। मौके पर मौजूद लोगों के अनुसार करीबन ढाई बजे सरिया से लदा एक कंटेनर बिरला कंपनी के निर्माणाधीन यूनिट-2 के अंदर घुसा। अंदर जगह न होने के कारण कंटेनर चालक ने कंटेनर को बिना किसी सह-चालक के द्वारा सड़क की तरफ बैक मोड़ दिया।

अचानक सरिया से लदा कंटेनर सड़क के बीचो-बीच आने के चलते बाइक सवार कंटेनर के पीछे टकराया और उसकी शरीर व छाती में सरिया घुसने के चलते बाइक सवार की मौके पर मौत हो गई। जबकि बाइक पर सवार एक अन्य व्यक्ति को चोटें आई हैं। जिसका उपचार सीएचसी बद्दी में चल रहा है। मौके पर पहुंची पुलिस ने तुरंत शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए नालागढ़ अस्पताल भेज दिया। पुलिस ने कंटेनर चालक के खिलाफ विभिन्न धाराओं के तहत लापरवाही का मामला दर्ज करके कंटेनर को कब्जे में लेकर चालक के गिरफ्तार कर लिया है।

मिली जानकारी के अनुसार वीरवार करीबन 2.30 बजे मनोज कुमार पुत्र नंटून राम निवासी संवलापुरा, पुलिस थाना मधुवनी, बिहार अपने एक अन्य साथी उमेश प्रसाद निवासी यूपी के साथ बाइक (एचपी12-एच-0407) पर सवार होकर यूनिकैम से सिक्कां होटल की तरफ जा रहा था। तभी मनोज कुमार जैसे ही बिरला उद्योग के यूनिट-2 के समीप पहुंचा कंटेनर चालक ने अचानक सरिया से लदा कंटेनर सड़क की तरफ बैक कर दिया। जिससे बाइक सवार मनोज कुमार कंटेनर के पीछे टकराया और उसकी शरीर व छाती में सरिया घुसने के चलते मनोज की मौके पर ही मौत हो गई।

हैरानी तो इस बात की है कि काफी देकर तक मनोज का शव सड़क के किनारे पड़ा रहा है लेकिन न तो उद्योग की सिक्योरिटी और न ही वहां काम पर लगे किसी भी व्यक्ति ने शव को सड़क से उठाया। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार कंटेनर चालक के साथ न तो कोई क्लीनर था और न ही उद्योग की मौके पर सिक्योरिटी मौजूद थी। हादसा कंटेनर चालक की लापरवाही से पेश आया। पता चला है कि मनोज कुमार घर का इकलौता सहारा था और उसके घर कमाने वाला या परिवार का पालन पोषण करने वाला कोई नहीं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।