पांवटा साहिब में आठ हाथियों के झुंड ने मचाया उत्पात, लाेग परेशान #news4
October 4th, 2022 | Post by :- | 96 Views

नाहन : उत्तराखंड राज्य के राजाजी झांसी पार्क से यमुना नदी को क्रास कर हिमाचल प्रदेश के जिला सिरमौर के कर्नल शेरजंग नेशनल पार्क सिंबलवाड़ा पहुंच रहे हाथियों के झुंड अब किसानों की परेशानी का सबब बन चुके हैं। पिछले 1 सप्ताह से हाथियों के झुंड कई किसानों की फसलों को बर्बाद कर दिया है। बीती रात हाथियों ने पांवटा साहिब के सैनवाला मुबारिकपुर सहित साथ लगते क्षेत्रों में धान की फसल को भारी नुकसान पहुंचाया। जहां हाथियों ने फसल को तहस नहस कर दिया। इसके साथ साथ माजरा व बहराल पंचायत में भी फसलों समेत पेड़ पौधों को नुकसान पहुंचा चुके हैं।

हाथियों के झुंड से लोगों में दहशत

आसपास के रिहायशी इलाकों में हाथियों के पहुंचने से लोगों में दहशत का माहौल है। इस बार बहराल और सतीवाला गांव के लोगों ने आठ हाथियों के झुंड को देखा। इससे लोग महिलाओं को खेतों और छोटे बच्चों को बाहर भेजने से कतराने लगे हैं। एक माह से हाथियों की संख्या निरंतर बढ़ती जा रही है। साथ ही लोगों में दहशत का माहौल बना हुआ है। सैनवाला मुबारिकपुर पंचायत प्रधान कमला देवी, ओमलाल, बेहड़ेवाला के प्रदीप, हंसराज, जसविंद्र सिंह, भूप सिंह, ग्राम पंचायत बहराल, माजरा व सैनवाला निवासी त्रिलोक सिंह, प्रोमिला, अजय पाल, अंजना, भूपेंद्र सिंह व जसवीर ने कहा कि हाथियों से ग्रामीण खौफजदा हैं।

ग्रामीण रात के समय बाहर निकलने से कर रहे हैं गुरेज

रात के समय तो घरों से बाहर निकालना खतरनाक साबित हो सकता है। इस बार करीब आठ छोटे बड़े हाथियों का झुंड उत्तराखंड से पहुंचा है, जो बहराल पंचायत के सतीवाला, बहराल,सैनवाला व माजरा क्षेत्र में पहुंच रहे है। सैनवाला इलाके में हाथियों ने 60-70 बीघा में धान की फसल को तहस नहस किया है। ग्रामीणों का कहना है कि हर वर्ष ही उत्तराखंड के राजाजी नेशनल पार्क से युमना नदी पार करके हाथी पांवटा क्षेत्र में प्रवेश करते हैं, जो हिमाचल के सिंबलवाड़ा और साथ लगते हरियाणा के कलेसर नेशनल पार्क में घूमते हैं। रात के समय हाथी आसपास के गांव की निकल रहे हैं। डीएफओ पांवटा कुनाल अंग्रीश ने कहा कि सूचना मिलने पर वन विभाग टीमें हाथियों को नेशनल पार्क की तरफ खदेड़ रही हैं। ग्रामीण खुद जोखिम न लें, इसको लेकर विभाग को सूचित करें।

 

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।