दिल्ली के पीरागढ़ी में बैटरी फैक्ट्री में भीषण आग, धमाके से बिल्डिंग का एक हिस्सा गिरा, कुछ लोग फंसे
January 2nd, 2020 | Post by :- | 148 Views

नई दिल्ली. राजधानी दिल्ली के पीरागढ़ी इलाके में ओकाया बैटरी की फैक्ट्री में भीषण आग लग गई है. आग लगने से अंदर रखे कई बैटरी में विस्फोट हो गया. धमाके की वजह से बिल्डिंग का कुछ हिस्सा गिर गया जिससे उसके नीचे कुछ लोग दब गए. इसके अलावा कुछ दमकलकर्मी भी इसमें घायल हुए हैं. आग की सूचना पाकर मौके पर फायर ब्रिगेड की पैंतीस गाड़ियां पहुंची हैं. इसके अलावा की टीम रेस्क्यू ऑपरेशन में जुटी है. फिलहाल ये दोनों आग पर काबू पाने में जुटी हैं.

जानकारी के अनुसार ये आग गुरुवार सुबह चार बजकर 23 मिनट पर लगी. ‌आग लगने की वजहों का फिलहाल पता नहीं चला है लेकिन माना जा रहा है कि शॉर्ट सर्किट के चलते आग लगी है. दमकलकर्मी जब आग को बुझाने का काम कर रहे थे तभी वहां हुए धमाके से इमारत का एक हिस्सा अचानक गिर गया. जिससे कई दमकलकर्मी घायल हो गए. घायलों को अस्पताल में भर्ती करवाया गया है.
दिल्ली के पश्चिम बिहार में बैटरी बनाने वाली फैक्ट्री में लगी भीषण आग, आग से इमारत का कुछ हिस्सा भी गिरा, आग बुझाने में जुटी दमकल की 35 गाड़ियां, कई दमकलकर्मी भी घायल, इमारत के मलबे में कई लोगों के दबे होने की आशंका
CM केजरीवाल ने आग में फंसे लोगों के सलामती की प्रार्थना की
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आग में फंसे लोगों की सलामती की प्रार्थना की. उन्होंने कहा कि मैं इस पर अपनी नजर बनाए हुए हूं. फिलहाल दमकलकर्मी आग पर काबू पाने में जुटे हैं.
दिसंबर 2019 में हुई थी आग लगने की तीन बड़ी घटनाएं
बता दें कि बीते दिसंबर महीने में दिल्ली में आग लगने की तीन बड़ी घटनाएं सामने आई थीं जिसमें पचपन से ज्यादा लोगों की मौत हो गई थी. आठ दिसंबर को आनंद मंडी इलाके में एक फैक्ट्री में भीषण आग लग गई थी. जिससे वहां काम करने वाले 43 मजदूरों की जलने और दम घुटने से मौत हो गई थी. इसके एक हफ्ते बाद शालीमार बाग इलाके में चार मंजिला एक रिहाइशी इलाके में आग लग गई थी. इसमें वहां रहने वाली तीन बुजुर्ग महिलाओं की मौत हो गई थी. वहीं तीसरी घटना 23 दिसंबर को किराड़ी इलाके में हुई थी जहां कपड़े के गोदाम में आग लग गई थी. इस हादसे में नौ लोगों की मौत हो गई थी.

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।