ज्वालामुखी भाजपा में फूटी अंतर्कलह, धवाला के खिलाफ लिखा पत्र वायरल
October 29th, 2019 | Post by :- | 112 Views

संगठनात्मक चुनाव से पहले ज्वालामुखी भाजपा के एक पदाधिकारी ने पत्र बम फोड़ा है। यह पत्र सोशल मीडिया में वायरल हो रहा है। मंडल महामंत्री पृथ्वी सिंह ने विधायक रमेश धवाला पर आरोप जड़े हैं। प्रदेश अध्यक्ष सतपाल सत्ती और संगठन मंत्री पवन राणा को लिखी चिट्ठी में पृथ्वी सिंह ने ज्वालामुखी मंडल भाजपा में हस्तक्षेप करने की मांग की है। आरोप लगाया कि विधायक के इशारे पर पुराने और कर्मठ कार्यकर्ताओं को भाईभतीजावाद के नाम पर दरकिनार किया जा रहा है। पार्टी की चुनाव संबंधी बैठकों में जानबूझकर उन्हें और उन जैसे चंगर क्षेत्र के कई नेताओं को नहीं बुलाया जा रहा है। जब कुछ पदाधिकारी चंगर की समस्याओं को लेकर शिमला में मुख्यमंत्री से मिले थे, तब से विधायक ने इसे अपनी शिकायत मानकर पदाधिकारियों की अनदेखी शुरू कर दी।

उधर, पृथ्वी सिंह ने पत्र लिखने की बात कबूली है। भाजपा मंडल अध्यक्ष चमन पुंडीर ने बताया कि पृथ्वी सिंह की ओर से लगाए गए आरोप निराधार हैं। अगर उन्हें किसी अनदेखी का अंदेशा था तो उन्हें अध्यक्ष से बात करनी चाहिए थी। जिला चुनाव सह प्रभारी अभिषेक पाधा ने बताया कि महामंत्री की शिकायत उनके ध्यानार्थ आई और नेतृत्व को भेज दी गई है।

अनुशासनहीनता के आरोप में छह नेता भाजपा से निष्कासित

रोहडू मंडल भाजपा चुनाव में अनुशासनहीनता पार्टी के छह नेताओं पर भारी पड़ी। मंडल भाजपा सदस्यों की शिकायत पर पार्टी प्रदेशाध्यक्ष ने इन नेताओं को छह साल के लिए निष्कासित कर दिया है। इसका कारण मंडल कार्यकारिणी के चुनाव में बाधा पहुंचाना बताया गया है।

भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती ने इनके निष्कासन की पुष्टि करते हुए बताया कि इन नेताओं पर पार्टी विरोधी गतिविधियों के कारण कार्रवाई की गई है। सूत्रों के अनुसार इन नेताओं ने समानांतर उम्मीदवार खड़े करने का प्रयास किया, जबकि चुनाव सर्वसहमति से होना था।

जिन नेताओं पर अनुशासनहीनता पर कार्रवाई की गाज गिरी, उनमें भाजपा प्रदेश कार्यसमिति सदस्य सत्य प्रकाश शुक्ला, राजेश भ्रांटा, जिला सचिव महासू वीना शुक्ला, जिला कार्यसमिति सदस्य गिरधारी लाल वर्मा, अमीर चंद नेगी और भाजयुमो जिला सचिव अजय खुराना शामिल हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।