श्रीरेणुकाजी मिनी जू में दो भालू के बदले लाया जाएगा काले हिरण व चीते का जोड़ा #news4
August 8th, 2022 | Post by :- | 80 Views

नाहन : जिला सिरमौर के श्रीरेणुकाजी मिनी जू में जल्द ही जानवरों की संख्या को बढ़ाया जाएगा। पर्यटकों को जू में सितंबर माह से काले हिरण व चीते के जोड़े का दीदार होगा। वन्य प्राणी विहार श्रीरेणुकाजी से दो काले भालुओं को शिफ्ट करने के बदले चार जानवरों को श्रीरेणुकाजी लाया जाएगा, जिसकी प्रक्रिया आरंभ कर दी है। मिनी जू श्रीरेणुकाजी में विचरण कर रहे पांच काले भालुओं में से दो को छतबीड़ चिडिय़ाघर में शिफ्ट किया जाएगा। जबकि, उसके बदले छतबीड़ से ही चितल व काले हिरण का एक-एक जोड़ा श्रीरेणुकाजी लाया जाएगा। इसको लेकर वन्य प्राणी विहार ने सेंट्रल जू अथोरिटी (सीजेडए) को प्रपोजल भेज दी है। शीघ्र ही यहां चारों नए जानवरों के शिफ्ट होने की उम्मीद है।

मगर काले भालूओं की संख्या घटकर यहां तीन रह जाएगी। इसके अलावा एक नर तेंदुए को भी शिमला के टूटीकंडी से श्रीरेणुकाजी लाया जाएगा। इसको लेकर प्रदेश सरकार ने अपनी हामी भर दी है। उल्लेखनीय है कि श्रीरेणुकाजी का वन्य प्राणी विहार धार्मिक आस्था के चलते प्रदेश में अपनी अलग पहचान रखता है। यहां के जानवर आरामदेह माहौल में अपना जीवन यापन कर रहे हैं। जंगली जानवरों को शिफ्ट करना वन्य प्राणी विभाग की अपनी एक अलग प्रक्रिया है। इसके तहत जितने जानवर एक स्थान से दूसरे स्थान पर भेजे जाते हैं, उनके स्थान पर उतने ही दूसरे जानवरों को शिफ्ट किया जाता है।

मिनी जू श्रीरेणुकाजी से दो काले भालुओं को शिफ्ट करने के बदले चार जानवर लाए जाएंगे। जिनमें चीते व काले हिरण का एक-एक जोड़ा शामिल है। काले हिरण की प्रजाति श्रीरेणुकाजी में पहले नहीं है। जबकि, एक नर चितल पहले से मौजूद है। नए जानवरों के यहां आने से चितल की संख्या बढ़कर तीन हो जाएगी। जबकि काले हिरण का एक नया जोड़ा पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र बनेगा। वन्य प्राणी विहार श्रीरेणुकाजी के रेंज ऑफिसर नंदलाल ठाकुर ने बताया कि जानवरों को शिफ्ट किए जाने की प्रक्रिया जारी है। शीघ्र ही दो भालुओं के बदले पांच जानवर श्रीरेणुकाजी लाए जाएंगे। जिसमें एक नर तेंदुआ भी शामिल है। इस माह के अंत तक इन जानवरों के श्रीरेणुकाजी लाए जाने की योजना है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।