हिमाचल कांग्रेस को ‘आप’ ने दिया एक और झटका: जिला परिषद सदस्‍य ने बदला पाला- लगाए आरोप #nred5
March 23rd, 2022 | Post by :- | 86 Views

शिमलाः हिमाचल प्रदेश के पड़ोसी राज्य पंजाब में सरकार बनाने के बाद अब आम आदमी पार्टी हिमाचल का रुख कर रही। ऐसे में सूबे के भीतर पार्टी से जुड़ा कोई बड़ा चेहरा ना होने की वजह से आप द्वारा दूसरी पार्टियों से जुड़े नेताओं को अपने पाले में खींचा जा रहा है।

पहले युवा कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष मनीष ठाकुर सहित करीब 25 कार्यकर्ताओं ने कांग्रेस पार्टी को अलविदा कह आम आदमी पार्टी की सदस्यता हासिल की इसके उपरांत युवा कांग्रेस के महासचिव ईशान ओहरी तथा सिरमौर जिले की नाचन विधानसभा क्षेत्र से जिला परिषद सदस्य जसवीर सिंह ने आप का दामन थामा।

कांग्रेस की इस नेत्री ने बदल लिया पाला

वहीं, अब इसी कड़ी में अब विधानसभा क्षेत्र गगरेट से कांग्रेस समर्थित कार्यकर्ता रजनी चौधरी ने आप की सदस्यता ग्रहण करने की घोषणा की है। बता दें कि रजनी चौधरी विधानसभा गगरेट के वार्ड अम्बोटा से जिला परिषद सदस्य हैं। रजनी चौधरी आज यानी बुधवार को राजधानी शिमला में आम आदमी पार्टी की सदस्यता ग्रहण करेंगी। इस संबंध में जानकारी देते हुए रजनी चौधरी कहती हैं कि उन्होंने विपरीत स्थितियों में काम कर जिला परिषद सीट जीतकर कांग्रेस पार्टी की झोली में डाली थी।

चाटुकारों की पार्टी बन कर रह गई है कांग्रेस

इस दौरान शुरु के दिनों में उनके साथ पार्टी के नेताओं द्वारा बेहद अच्छा व्यवहार किया गया। परंतु थोड़े समय बाद स्थानीय नेता उन्हें हर कार्यक्रम में अनदेखा करने लगे। वे कहती हैं कि कांग्रेस पार्टी अब मात्र चाटुकारों की पार्टी बन कर रह गई है। वे कहती हैं कि उन्होंने कभी भी पार्टी विरोधी कार्य नहीं किया। परंतु कांग्रेस सिर्फ वह ही कार्यकर्ता कामयाब है जिन्हें चमचागिरी करनी आती हो या फिर जो नेता की झूठी शुामद करे।

रजनी चौधरीः पार्टी छोड़ने का है दुख

रजनी चौधरी कहती हैं कि उन्हें पार्टी छोड़ने का दुख है। हालांकि, कुछ सीनियर नेताओं ने उन्हें फोन भी किए। परंतु बहुत सहन किया अब कांग्रेस से नाता तोड़ रही हूं। वे कहती हैं कि अब आम आदमी पार्टी हिमाचल का भविष्य है। आम आदमी पार्टी एक साफ सुथरी पार्टी है इसलिए अब आगे का सफर आम आदमी पार्टी के साथ होगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।