शिमला की सीमाओं पर सुरक्षा कड़ी, पूछताछ के बाद मिल रहा प्रवेश
March 20th, 2020 | Post by :- | 191 Views

कोरोना वायरस के संभावित खतरे को देखते हुए शिमला जिला प्रशासन ने सुरक्षा कड़ी कर दी है। किसी भी बाहरी नंबर के वाहन को शिमला आने की अनुमति नहीं दी जा रही है। सिर्फ हिमाचल के लोगों को ही अपनी पहचान बताने के बाद जिले में प्रवेश दिया जा रहा है। सैलानियों के लिए शिमला बंद कर दिया गया है। जो सैलानी बसों में भी शिमला पहुंच रहे हैं, उन्हें वहीं पर रोका जा रहा है। बसों से लेकर बाहरी नंबरों के वाहनों की जांच के लिए तारादेवी और तवी में नाके लगाए गए हैं।

पड़ोसी राज्यों से आने वाले सैलानियों को शोघी में ही रोका जा रहा है। हिमाचल नंबर के वाहनों में आ रहे लोगों के भी दस्‍तावेज जांचे जा रहे हैं। इनके दस्‍तावेज राज्य के ही हैं, उन्हें ही शहर में आने की अनुमति दी जा रही है। इसी तर्ज पर नेपालियों की भी जांच करने के निर्देश दिए गए हैं। शहर में कोई भी सैलानी न आए, इसके लिए परवाणू से लेकर शिमला तक कई स्थानों पर जांच की जा रही है।

रेल में कम हुए यात्री

कालका से शिमला ट्रैक पर चलने वाली ट्रेन में आने वाले लोगों की संख्या में भी गिरावट दर्ज की गई है। राजधानी में पर्यटकों की एंट्री के बंद करने के बाद इसका असर दिख रहा है। सरकार के फैसले के बाद कालका स्टेशन पर सैलानियों को पहले ही बता दिया था कि हिमाचल में सैलानियों की एंट्री बंद है। वहीं, शुक्रवार को शहर से घर वापसी के लिए जाने वाले सैलानियों की संख्या काफी ज्यादा रही। रेलवे स्टेशन पर विस्टाडोम ट्रेन खाली पहुंची।

बाजार में भी कम दिखे लोग

राजधानी के रिज मैदान से लेकर लोअर बाजार ही नहीं बल्कि बसों से लेकर सर्कुलर रोड पर भी आम जनता काफी कम दिख रही है। रोजाना सुबह से लेकर रात तक दौड़ने वाला शहर आज थमा सा नजर आया। राजधानी में स्कूल, कॉलेज बंद हैं, ऑफिस आने वाले लोगों की संख्या भी कम ही दिख रही है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।