आखिर अपनी ही पार्टी में क्यों बेगाने हो रहे विक्रमादित्य .. #news4
January 6th, 2022 | Post by :- | 129 Views

वीरभद्र सिंह के देहांत के उपरांत, अकसर देखा जा रहा है कि विक्रमादित्य सिंह की हर बात पर पार्टी के नेता उन्हें निशाने पर लेते हैं। इस बार भी यही हुआ, जैसे ही विक्रमादित्य सिंह नें प्रधानमंत्री का काफिला रोकने को गलत ठहराया, बैसे ही कांग्रेस के कई नेताओं नें उनके विरुद्ध मोर्चा खोल दिया। पहले नीरज भारती और फिर रायजदा नें उन्हें निशाने पर ले लिया।

विक्रमादित्य सिंह युवा नेता हैं, बेबाक अपनी बात रखते हैं,किसी की बुराई नहीं करते । मगर ऐसा करना उनका गुनाह नहीं है। पिछले घटनाक्रम को अगर गौर से देखा जाए तो पार्टी का एक धड़ा शायद उनके राजनीतिक कद को निशाना बनाकर उन्हें पार्टी विरोधी दिखाकर हित साधना चाहता हो।

हिमाचल प्रदेश में वीरभद्र सिंह का कद सबसे बड़ा था। लोग कांग्रेस की वजह से वीरभद्र सिंह को नहीं जानते थे, बल्कि, वीरभद्र सिंह की वजह से कांग्रेस को जानते थे । कई बार वीरभद्र सिंह को भी निशाने पर लाने की कोशिश हुई, मगर उनके राजनीतिक कद के आगे, पार्टी नतमस्तक होकर रह जाती थी।
अब जब वीरभद्र सिंह इस दुनिया में नहीं हैं, पार्टी का ही एक धड़ा, उनके बेटे को निशाना बनाकर राजनीतिक हित साधने की कोशिश में है। क्योंकि ये उन्हें भी पता है कि मौका मिलते ही विक्रमादित्य सिंह, वीरभद्र सिंह का स्थान ले सकते हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।