सात साल बाद पेयजल कनेक्‍शन लगा और सात दिन में ही काट दिया, बूंद-बूंद के लिए तरसा सकरी का बुजुर्ग दंपती #news4
November 25th, 2021 | Post by :- | 66 Views

कांगड़ा : यह कैसी व्यवस्था है, सात साल के बाद नल लगा और एक सप्ताह के भीतर कनेक्शन काट भी दिया। गरीब दंपती पेयजल के लिए परेशान है, लेकिन सुध लेने वाला कोई नहीं। तहसील हरिपुर व नगरोटा सूरियां खंड के तहत ग्राम पंचायत सकरी के निवासी 65 वर्षीय प्यार चंद चौधरी का परिवार पेयजल संकट से जूझ रहा है। प्‍यार चंद की 65 वर्ष है और हार्ट पेशेंट होने के कारण दो स्टंट डाले हैं और बीपीएल परिवार से संबंध रखते हैं। इनकी समस्या यह है कि वर्ष 2014 में उन्होंने पानी के कनेक्शन के लिए जल शक्ति विभाग को आवेदन दिया था और इनका निजी कनेक्‍शन स्वीकृत भी हो गया और बिना नल के लगे वर्ष 2016 में उसका बिल भी भर दिया गया, लेकिन वर्ष 2021 फरवरी-मार्च के बीच तकरीबन सात वर्ष के बाद नल  लगा और  एक सप्ताह के भीतर ही कनेक्शन काट दिया गया और जब कनेक्शन काटा गया तो परिवार के मुताबिक घर पर कोई भी नहीं था और उन्हें कारण भी नहीं बताया गया।

बता दें पिछले कई वर्षों से इन्हीं की निजी जमीन से सरकारी पाइप निकली हैं, लेकिन इस परिवार को विभाग ने पानी की बूंद-बूंद के लिए तरसा दिया। जिसके नजदीक ही गोबर के ढेर लगे हैं। परिवार में प्यार चंद और उनकी पत्नी अयोध्या देवी दो ही लोग रहते हैं। अयोध्या देवी के मुताबिक, वह दिहाड़ी मजदूरी करके परिवार को पाल रही है। उनके पति बीमारी के कारण काम करने में असमर्थ हैं और सुबह-शाम परिवार की जरूरत के लिए पानी खुद हैंडपंप से भर कर लाती हैं।

इन दोनों का कहना है कि पानी के कनेक्शन के लिए हर जगह गुहार लगाई, लेकिन किसी ने भी इनकी सुनवाई नहीं की। प्रशासन से इनकी मांग है कि हमारी उम्र का लिहाज करते हुए और इंसानियत दिखाते हुए शीघ्र अति शीघ्र हमें पानी का कनेक्शन मिलना चाहिए और सरकार भी कह रही है कि हर घर को नल लगाया जाएगा फिर सरकार के दावे खोखले साबित होते नजर आ रहे हैं।

यह बोले जलशक्ति विभाग के एसडीओ मनीष कुमार चौधरी

जल शक्ति विभाग हरिपुर एसडीओ मनीष कुमार चौधरी ने कहा कि उन्होंने कुछ दिन पहले ही यहां पर अपनी ड्यूटी ज्वाइन की है। शीघ्र मामले की पड़ताल करवाकर पानी का कनेक्शन बहाल किया जाएगा।

 

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।