हादसे के बाद पुलिस प्रशासन सख्त: मालवाहक वाहनों में श्रद्धालुओं को ढोने पर अब चालक का लाइसेंस होगा रद्द #news4
April 4th, 2022 | Post by :- | 316 Views

मालवाहक वाहनों में श्रद्धालुओं को ढोने पर अब चालक का लाइसेंस रद्द किया जाएगा। श्रद्धालुओं से भरे वाहनों से लगातार हो रहे हादसों के बाद पुलिस सख्त हो गई है। पुलिस ने अपने आधिकारिक सोशल मीडिया पेज पर इस संबंध में हिंदी और पंजाबी में चेतावनी भी जारी कर दी है। मैड़ी मेले के दौरान पंजोआ में ट्रक पलटने से दो श्रद्धालुओं की मौत हो गई थी। जबकि 50 श्रद्धालु घायल हो गए थे। बीते रविवार को थानाकलां के हरिनगर में भी श्रद्धालुओं से भरा टेंपो पलटा है। इसमें जान माल का कोई नुकसान तो नहीं हुआ, लेकिन पेड़ों में वाहन न फंसता तो बड़ा हादसा हो सकता था। अब पुलिस की ओर से जारी हिदायत में लिखा गया है कि माता चिंतपूर्णी और सूबे के अन्य धार्मिक स्थलों में मालवाहक वाहनों में श्रद्धालु सफर न करें।

इस प्रकार से नियमों की अवहेलना करने पर दस हजार रुपये का चालान और लाइसेंस भी रद्द किया जा सकता है। वाहन को जब्त भी किया जा सकता है। पंजाब में मैदानी क्षेत्र होने के कारण पंजाब से डबल डेकर मालवाहक वाहनों में सवार होकर श्रद्धालु हिमाचल पहुंच जाते हैं। ऊना में भी कुछ क्षेत्र मैदानी होने पर दिक्कत नहीं होती है, लेकिन जैसे ही ऊना में पहाड़ी क्षेत्र शुरू होता है तो हादसे होने का खतरा बढ़ जाता है। पूर्व में भी ऐसे कई हादसे हो चुके हैं। मालवाहक वाहनों में सफर करने वालों पर हादसों का कोई असर नहीं दिख रहा है। बीते रविवार को हादसा होने के बावजूद लगातार जिला मुख्यालय से ऐसे वाहनों का गुजरना जारी है। उधर, एएसपी प्रवीण धीमान ने बताया कि नियमों की अवहेलना पर सख्त कार्रवाई की जा रही है। मालवाहक वाहनों में श्रद्धालुओं को ढोने पर संबंधित आरएलए से लाइसेंस रद्द करने की अनुशंसा की जाएगी।

अधिकारियों, जवानों से उलझ पड़ते हैं श्रद्धालु
पंजाब से आने वाले इन श्रद्धालुओं से भरे मालवाहक वाहन को रोकने पर यह अधिकारियों और जवानों से उलझ पड़ते हैं। श्रद्धालु पंजाब में कहीं भी इस तरह न रोकने की दलील देते हुए धरने पर बैठ जाते हैं। हालांकि कुछ मामलों में पुलिस सख्ती बरतते हुए इन्हें लौटा भी देती है या फिर अन्य माध्यम से यात्रियों को आगे भेजती है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।