सोशल मीडिया पर बहस के बाद पूर्व सीपीएस और भाजपा कार्यकर्ताओं में सड़क पर हाथापाई
May 25th, 2019 | Post by :- | 192 Views

पूर्व सीपीएस नीरज भारती और भाजपा कार्यकर्ताओं में जवाली के कैहरियां चौक पर हाथापाई हो गई। ऐन मौके पर पुलिस ने हस्तक्षेप कर दोनों पक्षों को अलग कर टकराव बढ़ने से टाल दिया। हालांकि, इस घटना से इलाके में तनावपूर्ण स्थिति बनी रही। मामला सोशल मीडिया पर बहस से शुरू हुआ था, जिसमें भाजपा कार्यकर्ता ने नीरज भारती को जवाली में एक स्थान पर आने की चुनौती दी थी। पुलिस ने तनाव को बढ़ने से रोक लिया, लेकिन अब जांच की जा रही है।

जानकारी के अनुसार पूर्व सीपीएस और भाजपा कार्यकर्ता की सोशल मीडिया पर बहस हुई। विवाद बढ़ने के बाद भाजपा कार्यकर्ता ने नीरज भारती का जवाली में एक स्थान पर आने की चुुनौती दे डाली। जिसमें 25 मई को 12 बजे आने का समय दिया गया। नीरज भारती तय समय से लगभग 15 मिनट पहले अपने कार्यकर्ताओं के साथ पहुंच गए। उसके बाद चुनौती देने वालों को सामने आने को कहने लगे, जिसका बाकायदा सोशल मीडिया पर लाइव भी किया गया।

इसी बीच जवाली पुलिस की टीम डीएसपी ज्ञान चंद की अगुवाई में मौके पर पहुंची, जो उन्हें मनाने लगी। वहीं, एसडीएम जवाली अरुण कुमार शर्मा भी मौके पर पहुंच गए। बताया जा रहा है कि पूर्व सीपीएस नीरज भारती व भाजपा कार्यकर्ता के बीच फेसबुक पर काफी दिनों से बहसबाजी चल रही थी। इसी के बीच दोनों पक्षों में फेसबुक पर अश्लील भाषा का प्रयोग भी शुरू हो गया।

एसडीएम जवाली अरुण कुमार शर्मा, डीएसपी जवाली ज्ञान चंद ठाकुर, एसएचओ जवाली नीरज राणा ने पूर्व सीपीएस नीरज भारती को मनाने की काफी कोशिश की, लेकिन नीरज भारती काफी देर तक बोलते रहे कि यहां किसी की गुंडागर्दी नहीं चलने दी जाएगी। इतनी ही देर में भाजपा कार्यकर्ता गैस एजेंसी के पास पहुंच गए। देखते ही देखते दोनों पक्षों के बीच हाथापाई शुरू हो गई।

पुलिस ने काफी जद्दोजहद करके दोनों गुटों को अलग-अलग करवा दिया। इसके उपरांत भी भाजपा-कांग्रेस कार्यकर्ता दोनों ओर से नारेबाजी करते रहे, जिसके कारण थोड़ी देर जाम लग गया। पुलिस को वाहनों की आवाजाही सुचारु बनाए रखने में काफी मशक्कत करनी पड़ी। एएसपी कांगड़ा राजेश कुमार ने कहा कि पुलिस जांच कर रही है। जो भी दोषी होगा उसके खिलाफ कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।