सीएम सुक्खू के आदेश के बाद छंट गया गुरु के लंगर का अंधेरा #news4
December 27th, 2022 | Post by :- | 78 Views

शिमला : इंदिरा गांधी मेडिकल कालेज एवं अस्पताल (आइजीएमसी) शिमला में “गुरु के लंगर’ का अंधेरा अब छंट गया है। पूर्व सरकार ने लंगर भवन का बिजली व पानी कनेक्शन काट दिया था। हालांकि, यह अंधेरा आलमाइटी ब्लेसिंग संस्था का सेवाभाव नहीं तोड़ पाया और 16 माह तक अपने संसाधनों से ही लंगर लगाया। संस्था के समन्वयक सरबजीत सिंह बाबी सोमवार सुबह सचिवालय में मुख्यमंत्री सुखविदंर सिंह सुक्खू से मिलने पहुंचे।

आठ साल से लगा रहे निश्शुल्क लंगर

इससे कुछ देर बाद ही मुख्यमंत्री ने बिजली बोर्ड व शिमला जल प्रबंधन निगम के अधिकारियों को निर्देश दिया कि संस्था का बिजली-पानी दोबारा बहाल करें। शाम चार बजे तक इसकी संयुक्त रिपोर्ट मांगी थी। हालांकि, मुख्यमंत्री का निर्देश होते ही दोनों विभाग हरकत में आए और घंटे के भीतर ही बिजली-पानी का कनेक्शन बहाल कर दिया। सरबजीत सिंह बाबी आठ वर्ष से निश्शुल्क लंगर लगा रहे हैं। आइजीएमसी के अलावा कमला नेहरू अस्पताल शिमला में भी उनकी संस्था लंगर लगाती है। इसके लिए उन्होंने पूरे शिमला शहर में रोटी बैंक भी शुरू किया है। लोगों के घरों से रोटियां आती हैं, जिन्हें लंगर में बांटा जाता है।

वीरभद्र सिंह सहित कई नेता आते थे लंगर में

पूर्व मुख्यमंत्री स्वर्गीय वीरभद्र सिंह सहित कई नेता आइजीएमसी में आलमाइटी ब्लेसिंग संस्था के लंगर में आते थे। प्रदेश के दूरदराज क्षेत्रों से आइजीएमसी आने वाले मरीज व उनके तीमारदार भूखे न सोएं इसके लिए संस्था ने यह पहल शुरू की थी। इसके तहत सुबह नाश्ता व शाम को निश्शुल्क भोजन की व्यवस्था की गई है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।