हिमाचल में कोरोना पाबंदियों में ढील के बाद आज से ये तीन बड़े बदलाव, पर्यटन कारोबार भी चमकेगा #news4
February 1st, 2022 | Post by :- | 153 Views

धर्मशाला : हिमाचल प्रदेश में कोरोना पाबंदियों में आज ढील मिल गई है। बंदिशें कम करने से हर स्थान पर बदलाव देखने को मिलेगा। प्रदेश में आज से तीन बड़े बदलाव होंगे, इनमें दुकानें देर शाम तक खुलेंगी। दुकानें व बाजार देर शाम तक खुलने से पर्यटन कारोबार भी चमकेगा। सरकारी कार्यालय शत प्रतिशत स्‍टाफ के साथ खुले हैं। स्‍कूलों में स्‍टाफ पहुंचा है व तीन से नौवीं से बारहवीं की नियमित कक्षाएं शुरू होंगी। इसके अलावा जिम व क्‍लब भी खुल गए हैं।

आज से सभी दुकानें देर शाम तक व पूरा सप्ताह खुली रहेंगी। इससे पूर्व रविवार के दिन सभी दुकानों को बंद रखने के आदेश थे। इसके अलावा शाम को सात बजे तक ही दुकानें खुलने की अनुमति थी। लेकिन अब देर शाम तक दुकानें खुली रहेंगी। वहीं रविवार को केवल दूध, ब्रेड व मेडिकल स्टोर जैसे अति आवश्यक वस्तुओं की दुकानें ही खोलने की अनु‍मति थी। अब रविवार के दिन भी यह दुकानें खुली रहेंगी।

दुकानें खुली रहने से जहां छुट्टी के दिन बाजारों में रौनक होगी, वहीं पर्यटन व्यवसाय को भी इससे लाभ मिलेगा। इसका मुख्य कारण यह है कि हिमाचल में अकसर पर्यटक वीकेंड पर ही आते हैं। शनिवार और रविवार से क्षेत्र में पर्यटन व्यवसाय से जुड़े लोगों के लिए कमाने का समय होता है, जबकि पिछले कुछ समय से रविवार बंद होने के कारण पर्यटक नहीं आ रहे थे।

इसके अलावा अब सरकारी कार्यालयों में भी पूरा स्टाफ होगा। पहले 50 फीसद स्टाफ के साथ ही कार्यालयों के काम किया जा रहा था। अब पूरा स्टाफ आएगा। इससे लोगों को अपने कामों को लेकर किसी प्रकार की कोई परेशानी नहीं होगी। हालांकि दिव्यांग व्यक्ति और गर्भवती महिलाओं को घर से ही कार्य करने की छूट होगी।

जिला कांगड़ा में कोरोना के कम न होते मामलों को देखते हुए प्रशासन ने नो मास्क नो सर्विस और रात्रि 10 बजे के बाद बाहर न निकलने की बंदिश लगाकर रखी है, लेकिन अन्य सभी व्यवस्थाएं खोल दी हैं।

वहीं तीन फरवरी से स्कूल खुलने के कारण मंगलवार से स्कूलों में शिक्षक भी पहुंच गए हैं। सभी कोचिंग संस्थान और पुस्तकालय भी 3 फरवरी से खुल जाएंगे। ज़िम और क्लब कोविड प्रोटोकाल के साथ खोलने के आदेश दिए हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।