अग्निपथ योजना युवा शक्ति के साथ दगा व चाकरी-चौकीदारी करवाने का मंसूबा #news4
June 20th, 2022 | Post by :- | 92 Views

हमीरपुर: सेना में भर्ती बदलाव अग्निपथ की हकीकत व असलीयत धीरे-धीरे अब बीजेपी के करणधारों को भी समझ आने लगी है। यह बात प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष एवं विधायक राजेंद्र राणा ने यहां जारी प्रैस बयान में कही है। उन्होंने कहा कि मजेदार बात यह है कि युवाओं के हितों को कुचलने व दमन करने वाली इस योजना में न तो विपक्ष को विश्वास में लिया गया न ही कोई इसके लिए पार्लियामैंट की बैठक की गई। यहां तक कि बीजेपी के कर्णधारों को भी इस योजना की कोई जानकारी नहीं है। अब जब इस योजना की हकीकत उनको समझ आने लगी है तो उन्हीं के मुंह से देश के युवाओं को गुलामी के दौर में धकेलने वाली इस योजना का खुलासा हो रहा है।

राणा ने कहा कि बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव व पश्चिमी बंगाल के बीजेपी प्रभारी कैलाश विजय वर्गीय का वायरल वीडियो खुद-ब-खुद बयान कर रहा है कि यह योजना महज युवाओं को सिक्योरिटी गार्ड बनाने के लिए लागू की गई है। वायरल वीडियो में कैलाश विजय वर्गीय का संवाद बता रहा है कि वह भी मानते हैं कि अगर भविष्य में उन्हें बीजेपी के कार्यालय की चौकीदारी करवानी होगी तो वह 4 साल में अग्निपथ योजना से रिटायर किए गए सिक्योरिटी गार्ड को तरजीह देंगे। उधर, बिहार की उप-मुख्यमंत्री रेणू देवी पहले ही स्पष्ट कर चुकी हैं कि देश में सरकारी है ही नहीं इसलिए इन लोगों को अग्निपथ योजना के तहत मात्र प्रशिक्षण दिया जाएगा।

ऐसे में भारतीय जनता पार्टी के सत्तासीन बड़े औहदेदारों के बयान अब स्पष्ट करने लगे हैं कि यह योजना युवाओं के साथ दगा है और इस दगा के बाद महज देश के युवाओं से सरकार चौकीदारी और चाकरी की उम्मीद पाले हुए है। राणा ने कहा कि लोकतंत्र में जनहित से बढ़कर कोई योजना नहीं है। ऐसे में अगर जनहित की पैरवी के नाम पर पूंजीवादियों की चाकरी के लिए गुलामों का इंतजाम सरकार कर रही है तो यह अन्यायपूर्ण ही नहीं बल्कि देश की युवा शक्ति के साथ छल व कपट है। जिस पर अब भारतीय जनता पार्टी के लोग मोहर लगाने लगे हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।