एम्स का आयुष ब्लॉक तैयार, ओपीडी का इंतजार
February 28th, 2020 | Post by :- | 150 Views

बिलासपुर – बिलासपुर कोठीपुरा में निर्माणाधीन अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) का भव्य आयुष भवन बनकर तैयार है, लेकिन ओपीडी शुरू करने में हो रहे विलंब पर शुक्रवार को केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे एम्स साइट पर एनबीसी और जिला प्रशासनिक अधिकारियों के साथ प्रगति पर समीक्षा बैठक करेंगे। बताया जा रहा है कि पैरामेडिकल स्टाफ के साथ ही स्वास्थ्य जांच सहित अन्य जरूरी उपकरणों की उपलब्धता को लेकर प्रक्रिया जारी है। ऐसे में ओपीडी कब शुरू होगी, यह खुलासा केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री कर सकते हैं। उनके बिलासपुर दौरे का शेड्यूल गुरुवार को जारी हो गया है। मंत्री के प्राइवेट सेक्रेटरी आईएएस कुलदीप नारायण की ओर से जारी शेड्यूल के तहत अश्विनी कुमार चौबे साढ़े 12 बजे बिलासपुर सर्किट हाउस पहुंचेंगे। इसके बाद वह कोठीपुरा पहुंचकर निर्माणाधीन एम्स के भवन एवं अन्य आधारभूत ढांचे का निरीक्षण करेंगे। इसके बाद जिला प्रशासन के अधिकारियों और निर्माता कंपनी एनबीसीसी अधिकारियों के साथ अब तक की प्रोग्रेस पर मीटिंग करेंगे। इस दौरान अधिकारियों से फीडबैक लिया जाएगा कि आयुष ब्लॉक में ओपीडी शुरू करने के लिए अभी और कितना समय लगेगा। इस प्रोग्रेस रिपोर्ट के आधार पर ओपीडी शुरू किए जाने की योजना बनेगी। उधर, बिलासपुर के एडीएम विनय धीमान ने बताया कि केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे शुक्रवार को बिलासपुर दौरे पर आ रहे हैं और इस दौरान वह एम्स साइट का निरीक्षण करने के बाद एनबीसीसी और जिला प्रशासन के अधिकारियों के साथ प्रगति पर समीक्षा बैठक करेंगे। उन्हें अब तक की प्रगति पर प्रेजेंटेशन दी जाएगी। उन्होंने बताया कि आयुष ब्लॉक बनकर तैयार है। उल्लेखनीय है कि 1351 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित होने वाले एम्स का निर्माण दो वर्षों के भीतर पूरा करने का लक्ष्य तय किया गया है। 100 सीटों की स्वीकृति वाले मेडिकल कालेज में जुलाई 2020 से एमबीबीएस की 50 सीटों का प्रथम बैच बिठाने की योजना है। वहीं एम्स परिसर में प्रवेश के लिए शिमला-बिलासपुर स्टेट हाई-वे से दो रास्ते बनाए जाएंगे। एक रास्ता नवोदय स्कूल के पास से होकर गुजरेगा, तो दूसरा इससे आगे से निकाला जाएगा। खास बात यह है कि किरतपुर मनाली फोरलेन से एम्स कनेक्ट होगा। एम्स से शिमला की दूरी 78 किलोमीटर और चंडीगढ़ से 123 किलोमीटर रह जाएगी।

एम्स में 750 बिस्तरों की क्षमता

एम्स में 750 बिस्तरों की क्षमता होगी, जिसमें से 300 बिस्तर सुपरस्पेशियलिटी के लिए होंगे। इसमें एमबीबीएस की 100 सीटें तथा नर्सिंग की 60 सीटें होंगी। 320 बैड जरनल स्पेशियलिटी, 30 बैड आयुष, 15 आपरेशन थियेटर, 50 बैड आईसीयू, 50 बैड एमर्जेंसी ट्रॉमा में उपलब्ध होंगे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।