लॉकडाउन के बीच वन माफिया सक्रिय, खैर के 40 पेड़ काटे; बाहर न ले जा सके तो जमीन में दबा दी लकड़ी
April 11th, 2020 | Post by :- | 100 Views

एक तरफ पूरे क्षेत्र को लॉकडाउन कर पुलिस ने चारों तरफ से सील किया हुआ है तो दूसरी तरफ चोरों के हौसले ऐसे हालात में पूरी तरह बुलंद हैं। वन माफिया का कहर गगरेट के जंगलों में रुकने का नाम नही ले रहा है। गगरेट के आशादेवी के पास वन माफिया ने निजी भूमि से करीब 40 खैर के पेड़ काट दिए, लॉकडाउन होने की वजह से चोरों को मोच्छे बेचने का मौका नहीं मिला और वहीं जमीन के नीचे दबा गए।

भूमि मालिक अपनी जमीन को देखने जब जंगल की तरफ गया तो देखा कि 40 के करीब खैर के पेड़ कटे हुए थेे। भूमि मालिक धीरज शर्मा ने वन विभाग और पुलिस को इस मामले की सूचना दी। वन विभाग ने मौके पर पहुंच कर खैर के मोच्छे बरामद कर लिए हैं। चोरों ने खैर के पेड़ काट कर उनके मोच्छे वहीं जमीन के नीचे छिपा कर ऊपर घास बगरेह डाल दिया था, ताकि लकड़ी का पता न चल सके।

शक के आधार पर दो लोगों से इस मामले में पूछताछ भी पुलिस द्वारा की गई है। लेकिन चोरों का कोई सुराग नहीं लग पाया है। अब भूमि मालिक के सामने सबसे बड़ी समस्या है खैर के मोच्छे कहां रखे, क्योंकि लॉकडाउन में विभाग उसकी राहदारी पर्ची भी नहीं बना पाएगा।

वन रक्षक दिनेश कुमार का कहना है भूमि मालिक ने सूचना दी थी मौके पर पहुंच कर खैर के मोच्छे बरामद किए गए हैं। 40 के करीब खैर के पेड़ कटे हैं।

थाना प्रभारी गगरेट हरनाम सिंह का कहना है खैर के पौधे काटने की शिकायत आई है, खैर के पेड़ निजी भूमि से काटे गए हैं। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।