वार्षिक परीक्षाएं स्‍थगित, जिला कांगड़ा में कार्यालय बंद; निजी बसों पर भी लगी रोक
March 21st, 2020 | Post by :- | 228 Views

जिला कांगड़ा में काेरोना वायरस के दो मामले पॉजिटिव सामने आने के बाद प्रशासन ने बड़ा फैसला लिया है। जिला के सभी कार्यालय को बंद करने का आदेश जारी कर दिया गया है। साथ ही शिक्षा बोर्ड की वार्षिक परीक्षाएं भी स्‍थगित कर दी गई हैं। इसके अलावा जमा एक व दो सहित एसओएस की प्रैक्टिकल परीक्षाएं भी स्‍थगित कर दी हैं। वहीं प्रथम चरण में कोरोना संक्रमण पाए जाने वाले लोगों की अंतिम रिपोर्ट शाम को आ जाएगी। इनके संपर्क में आए लोगों का भी डाटा एकत्र किया जा रहा है, ताकि उनकी भी जांच करवाई जा सके।

जिला कांगड़ा में सभी सरकारी कार्यालय तत्काल प्रभाव से अनिश्चितकाल के लिए बंद कर दिए गए हैं, सिर्फ अस्पताल खुले रहेंगे। निजी बसों पर भी प्रतिबंध लगा दिया गया है। निगम की बसों को ही चलाने का आदेश जारी किया गया है। बसों में 25 से ऊपर सवारियां नहीं बैठाने का आदेश जारी किया गया है। बसें, बड़े मॉल, सैलून भी बंद होंगे। जिला के सभी आइसोलेशन सेंटर की क्षमता 5000 करने के प्रयास तेज कर दिए हैं।

डीसी कांगड़ा राकेश प्रजापत्ति ने कहा वार्षिक परीक्षाएं भी स्‍थगित कर दी गई हैं। हिमाचल प्रदेश स्‍कूल शिक्षा बोर्ड की दसवीं की परीक्षाएं पूरी हो चुकी हैं, जबकि बारहवीं के पेपर अभी बाकी हैं। बारहवीं कक्षा के जियोग्राफी, कंप्‍यूटर व वोकेशनल कोर्स की परीक्षाएं अभी होनी थीं, जिन्‍हें आगामी आदेश तक टाल दिया गया है। कोरोना पीड़ितों के संपर्क में आने वाले लोगों का डाटा एकत्रित करने में प्रशासन जुट गया है।

दो मामलों के पॉजिटिव आने के बाद लोगों में हड़कंप मच गया है। प्रशासन के भी हाथ पांव फूल गए हैं, लोगों को घर से अनावश्‍यक बाहर न निकलने की अपील की जा रही है। उपायुक्‍त राकेश प्रजापति ने कहा जिला के हालात को देखते हुए प्रतिदिन सुबह 11 बजे और शाम को पांच बजे लोगों को जिला के हालात से अगवत करवाया जाएगा।

दोनों मामले शाहपुर विधानसभा क्षेत्र के तहत सामने आए हैं, ऐसे में यहां के लोगों में भय का माहौल है। प्रशासन की ओर से लोगों को जागरूक करने का भी काम किया जा रहा है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।