दिल्ली में तब्लीगी जमात में शामिल एक और कोरोना मरीज की मौत
April 3rd, 2020 | Post by :- | 257 Views

निजामुद्दीन के तब्लीगी जमात मरकज में शामिल एक और कोरोना मरीज की शुक्रवार को मौत हो गई। इसके साथ ही दिल्ली में कोरोना से पीड़ित मरने वालों की संख्या पांच हो गई है। इसकी जानकारी मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दी। उन्होंने बताया कि दिल्ली में कोरोना मरीजों की कुल संख्या 384 पहुंच गई है। जिनमें से 58 लोग विदेश से आये थे। 384 मरीजों में से 259 ऐसे लोग हैं जो मरकज में शामिल हुए थे। सीएम केजरीवाल ने बताया कि दिल्ली में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 91 नए मामले सामने आए हैं।

इससे पहले गुरुवार को दो कोरोना संक्रमित बुजुर्गो की मौत हो गई थी। इनमें एक तब्लीगी मरकज में गए थे और दूसरे बुजुर्ग मरकज के पास दुकान चलाते थे। एक बुजुर्ग निजामुद्दीन और दूसरे तमिलनाडु के निवासी थे। दोनों मधुमेह के भी मरीज थे।

दो मरीज वेंटिलेटर पर 

समाचार एजेंसी पीटीआइ के मुताबिक दो कोरोना मरीजों को वेंटिलेटर पर रखा गया है। इसकी जानकारी सीएम केजरीवाल ने शुक्रवार को दी। गुरुवार को दिल्ली में एक ही दिन में 141 नए मामले सामने आए थे, जिनमें 129 जमाती थे। यही नहीं, एम्स के एक डॉक्टर, उनकी गर्भवती पत्नी व एक पार्षद पति भी पॉजिटिव पाए गए थे। दिल्ली में एक पार्षद पति भी तब्लीगी मरकज में गए थे। उनकी रिपोर्ट भी पॉजिटिव आयी है।

जमात में शामिल 536 लोग हैं भर्ती

तब्लीगी मरकज से निकाले गए 536 लोग विभिन्न अस्पतालों में भर्ती हैं, जबकि 1810 लोगों को क्वारंटाइन किया गया है। दिल्ली के दो मरीजों को अस्पताल से छुट्टी भी मिल गई।

सीएम ने कहा-समुदाय में नहीं फैला संक्रमण

दिल्ली में कोरोना संक्रमण के जितने मामले सामने आए हैं, उनमें 244 मामले पिछले पांच दिनों के हैं। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि अभी राजधानी में कोरोना का संक्रमण समुदाय में नहीं फैला है। जितने लोग संक्रमित पाए गए हैं, उनमें अधिकतर जमात में शामिल हुए लोग हैं। जमात में शामिल 182 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है, जबकि 55 लोग विदेशों से संक्रमित होकर आए हैं व पीड़ित मरीजों के संपर्क में आकर 31 लोग संक्रमित हुए हैं। वहीं, 25 लोगों के संक्रमित होने के कारणों का पता नहीं चला है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।