भोपाल के आसिफ इटली की स्कूटर राइडिंग चैम्पियनशिप में भाग लेने वाले पहले भारतीय होंगे
October 14th, 2019 | Post by :- | 220 Views

19 अक्टूबर को इटली में होने वाली स्कूटर राइडिंग चैंपियनशिप में भाग लेने वाले पहले भारतीय बनकर भोपाल के खिलाड़ी सैयद आसिफ ने इतिहास रच दिया है। विश्व स्तर की इस प्रतियोगिता में 10 अलग-अलग देशों के 36 लोगों को भाग लेने के लिए चुने गए हैं। इसमें आसिफ एकमात्र भारतीय हैं।

आफिस ने बताया “मैंने साइकिल पर सवार होना शुरू किया और बचपन से ही तेज दौड़ने का शौक था। 1996 में मेरे पिता ने मुझे बाइक दिलाई और मैंने प्रतियोगिता में भाग लिया और पहले नंबर पर आया। अब तक, मैंने देश भर में 200 से ज्यादा प्रतियोगिताएं जीती हैं। इसमें सात नेशनल अवॉर्ड शामिल हैं।

‘सरकार को युवाओं का समर्थन करना चाहिए’
इटली में स्कूटर राइडिंग चैंपियनशिप में जा रहे आसिफ ने बताया कि सरकार स्कूटर राइडिंग को प्रोत्साहित नहीं कर रही है जैसे अन्य खेलों को किया जा रहा है। आसिफ ने कहा, “इटली में होने वाली प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए कुल खर्च 4 लाख रुपए है। जब मैं खेल विभाग में गया, तो उन्होंने मुझे केवल 50 हजार रुपए दिए। सरकार को इस खेल में रुचि रखने वाले युवाओं का समर्थन करना चाहिए।”

दो दुर्घटनाओं में हाथ-पैर भी टूटे
आसिफ 1996 में एक बाइक दुर्घटना का शिकार हुए। जिसमें उनके हाथ में बाइक फ्रैक्चर हो गया, इससे उनके बाएं हाथ में एक रॉड डाली गई थी। 2000 में वह नेशनल राइडिंग इंडिया में हार गए, लेकिन आसिफ ने जीतने की ललक और दृढ़ता बनाए रखी। बाद में सालों में एक बार वह फिर से दुर्घटना में अपना पैर तुड़वा बैठे। इस कारण एक साल तक बिस्तर पर थे।

‘पिता ने बाइक बेच दी, लेकिन मैंने हार नहीं मानी’
उन्होंने कहा, “दुर्घटना के बाद, मेरे पिता ने बाइक बेची ताकि मैं बाइक चलाना बंद कर दूं लेकिन बाइक सवारी का मेरा जुनून मुझे नहीं रोक पाया और मैंने बाइक चलाना जारी रखा। कुछ समय बाद मैंने राज्य स्तरीय बाइक राइडिंग प्रतियोगिता में भाग लिया और पहले नंबर पर आया।”

उनकी मेहनत से सब खुश हैं: पत्नी शायान
आसिफ की पत्नी शायान शाहिद ने कहा कि परिवार के सभी सदस्य बहुत खुश हैं, क्योंकि उनकी मेहनत का अच्छा फल मिला है। उन्होंने देश को गौरवान्वित किया है। उन्होंने कहा, “आसिफ की कड़ी मेहनत और लगन की जीत होगी। मैं आसिफ के लिए भाग्यशाली हूं, क्योंकि हमारी शादी के बाद उनके साथ एक भी दुर्घटना नहीं हुई। सरकार को बाकी खेलों की तरह बाइक राइडिंग को भी प्रोत्साहित करना चाहिए, तभी आसिफ जैसे राइडर आगे बढ़ सकेंगे।”

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।