Astrology 2023 predictions : राहु और केतु की चाल कहीं दे न दे आपको मात, बचकर रहें #news4
December 8th, 2022 | Post by :- | 97 Views

Rahu ketu rashi parivartan 2023 : राहु और केतु हमेशा वक्री चाल ही चलते हैं। यह दोनों एक राशि में करीब डेढ़ वर्ष रहते हैं। राहु मेष में और केतु तुला में गोचर कर रहा है। अगले साल यह 30 अक्टूबर 2023 तक इसी राशि में गोचर करेंगे। 30 अक्टूबर 2023 तक राहु के मेष में ही गोचर रहेगा इस मान से जानिए सभी 12 राशियों पर राहु और केतु का शुभ और अशुभ असर।

1. मेष : केतु आपकी राशि 7वें भाव में गोचर साझेदारी के कोई कार्य करवाएगा, जिसमें धोखा होने की संभावना है। यह सेहत पर भी असर डालेगा। जैसे पीठ और पैरों में दर्द होना। दूसरी ओर राहु लग्न राशि के दूसरे भाव से निकलकर पहले में गोचर करेगा। ऐसे में आपको अपमान या अचानक किसी समस्या का सामना करना पड़ सकता है। इसके अलावा यहां स्थित राहु रोग और दुःख भी देता है। यह आपके जीवन के हर क्षेत्र में उथल-पुथल मचा देगा।
2. वृषभ : केतु आपकी राशि के 6ठे भाव में गोचर शत्रुओं पर विजयी और कार्य में सफलता दिलाएगा। किसी पुराने रोग से छुटकारा भी मिलेगा। करियर में सफलता के योग बनाएगा। हालांकि आपको घटना-दुर्घटना से बचना होगा। राहु आपकी राशि के 12वें भाव में गोचर करेगा तो खर्चें बड़ा देगा और सेहत को बिगाड़ देगा।
3. मिथुन : केतु आपकी राशि के पांचवें भाव में गोचर आपके रिश्तों में यह नकारात्मक असर डालेगा। छात्रों के लिए भी यह गोचर सही नहीं है। करियर में नुकसान हो सकता है। हालांकि शोधार्थियों के लिए यह गोचर शुभ है। सेहत के दृष्टिकोण से यह पाचन तंत्र खराब कर सकता है। किसी प्रकार की एलर्जी हो सकती है। राहु आपकी राशि के 11वें भाव में जब गोचर करेगा तब आपको अचानक से धन की प्राप्ति होने के योग बनेंगे। नौकरीपेशा हैं तो वेतन में वृद्धि होगी और व्यपारी हैं तो मुनाफा होगा। आय के साधन बढ़ेंगे आपकी के लिए राहु का गोचर शुभ साबित होगा।
4. कर्क : केतु आपकी राशि के चतुर्थ भाव में गोचर छात्रों के लिए शुभ नहीं रहेगा। करियर में भी नुकसान देगा। घर का माहौल भी खराब कर देगा। कहीं पर भी निवेश करने से बचें या सोच समझकर ही निवेश करे। सेहत का विशेष ध्यान रखें। राहु आपकी राशि के 10वें भाव में प्रवेश करेगा। ऐसे में आपकी सुख-सुविधाओं का विस्तार होगा। आर्थिक स्थित मजबूत होगी। हालांकि यदि आप नौकरी करते हैं तो कार्यस्थल पर आपको अपने दुश्मनों से सावधान रहना होगा। व्यापारियों का मुनाफा बढ़ेगा।
5. सिंह : केतु आपकी राशि के तीसरे भाव में गोचर आपकी कुछ समस्याओं का समाधान होगा। आप अपने लक्ष्य की पूर्ति कर पाएंगे। परिवार का माहौल अच्छा होगा और कार्य स्थल पर भी उन्नती होगी। राहु आपके नौवें भाव में स्थित रहेगा। इस दौरान परिवार में मतभेद हो सकते हैं। यात्राओं पर अधिक खर्च होगा। भाग्य का साथ नहीं मिलेगा। नौकरी और व्यापार में चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है और अधिक संघर्ष करना पड़ सकता है।
6. कन्या : केतु आपकी राशि के दूसरे भाव में गोचर करेगा तब आपके खर्चे बढ़ा देगा। गले में संक्रमण हो सकता है। परिवार में किसी बात को लेकर मतभेद हो सकता है। यात्रा के योग बनाएगा। हालांकि नौकरी और व्यापार पर इसका कोई खास असर नहीं होगा। राहु आपके आठवें भाव में गोचर करेगा। इस अवधि के दौरान आपकी रुचि गूढ़ रहस्यों बढ़ सकती है। व्यापार और नौकरी में कठिन परिश्रम करना होगा। सेहत का ध्यान रखना होगा।
7. तुला : केतु आपकी राशि के पहले भाव में गोचर आपको यह चिंतनशील बना देगा। आपके मन में कई तरह की योजनाएं बनेगी। नौकरी और व्यापार में सफलता अर्जित कर सकते हैं। राहु आपकी राशि के सातवें भाव में प्रवेश करेगा। इस गोचर से अचानक से धन प्राप्ति हो सकती है। नौकरी में परिवर्तन हो सकता है। व्यपार में नई रणनीति बनने की संभावना है। यात्रा के योग बन रहे हैं। दांपत्य जीवन में सतर्क रहने की जरूरत है।
8. वृश्चिक : केतु आपकी राशि के 12वें भाव में गोचर स्थिति को बेहतर बना देगा। धार्मिक यात्रा के योग बनाएगा। राहु आपकी राशि के छठे भाव में प्रवेश करेगा। इस गोचर से नौकरीपेशा हैं तो पदोन्नति होने की संभावना है और व्यापारी हैं तो लाभ प्राप्त होगा। करियर की दृष्टि से यह गोचर शुभ है। आपको सेहत का विशेष ध्यान रखना होगा।
9. धनु : केतु आपकी राश के ग्यारहवें भाव में गोचर, व्यापारी हैं तो आपकी आमदनी में उथल-पुथल होगी। आपको शेयर बाज़ार, स्टॉक मार्केट इत्यादि जोखिम वाले कार्यों से बचना होगा। हालांकि नौकरी में हालात सामान्य रहेंगे। रिश्तों में वाद विवाद होगा। आपकी राशि में राहु पंचम भाव में प्रवेश करेगा। इस भाव में राहु आय और व्यापार में तो शुभ फल प्रदान करता है लेकिन प्रेम संबंधों, परिवार, बच्चों और शेयर बाजार आदि कार्यों के लिए अच्छा नहीं होता है।
10. मकर : केतु जब आपकी राशि के दसवें भाव में गोचर आपमें कार्य के प्रति जुनून पैदा करेगा। इसके चलते नौकरी या व्यापार में लाभ मिलेगा। हालांकि आपको अपने सहकर्मियों के साथ व्यवहार को सही रखना होगा। राहु आपकी राशि के चतुर्थ भाव में गोचर करेगा। यह समय करियर, नौकरी, जमीन-जायदाद और माता की सेहत के लिए अच्छा नहीं होगा। राहु के प्रभाव से जॉब और प्रॉपर्टी समेत अन्य मामलों में परेशानी का सामना करना पड़ेगा।
11. कुंभ : केतु जब आपकी राशि के नौवें भाव में गोचर आपके भाग्य को कमजोर कर सकता है। आपको ज्यादा मेहनत करना होगी। घर के बड़े बुजुर्गों की सेहत का ध्यान रखना होगा। यात्रा के भी योग बनाएगा। हालांकि इस दौरान आप अपनी पैतृक संपत्ति से लाभ प्राप्त कर सकते हैं। राहु आपके तीसरे भाव में गोचर करेगा। इस दौरान आपके आत्मविश्वास, सतर्कता और इच्छाशक्ति में वृद्धि होगी। व्यापार में विस्तार की योजना बनेगी। नौकरी में तबादला या बदलाव होने की संभावना है। भाई-बहनों और दोस्तों से संबंध बनाकर रखें। यात्रा के योग हैं। सेहत पर ध्यान दें।
12. मीन : केतु आकी राशि के आठवें भाव में गोचर करेगा तब ऐसी संभावना है कि यह परिवार का माहौल बिगाड़ देगा। पैर में चोट लग सकती है और त्वचार में संक्रमरण कर सकता है। धन कमाने के नए सोर्स का पता चलेगा। किसी भी प्रकार के निवेश के जोखिम से बचें। राहु आपके दूसरे भाव में गोचर करेगा। इस दौरान आपको अचानक से कुछ ख़र्चों का सामना करना पड़ सकता है। आपकी वाणी में कटुता आ सकती है। परिवार में किसी से संबंध खराब हो सकते हैं। गले और दांतों में समस्या हो सकती है।
डिस्क्लेमर : यह जानकारी ज्योतिष मान्यता, गोचर की प्रचलित धारणा आदि पर आधारित है। इसकी पुष्टि news4 नहीं करता है। पाठक ज्योतिष के किसी जानकार से पूछकर ही कोई निर्णय लें।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।