कुल्लू के ऐतिहासिक गांव मलाणा में शराब पीने पर प्रतिबंध, चिकन व अंडे का भी नहीं कर पाएंगे सेवन #news4
December 15th, 2021 | Post by :- | 121 Views

कुल्लू  : जिला कुल्लू के पुरातन गांव मलाणा में अब कोई भी व्यक्ति शराब नहीं पी सकेगा और न ही चिकन व अंडे का सेवन कर पाएगा। देवता जमद्ग्नि ऋषि के आदेशानुसार ग्रामीणों ने अब गांव में शराबबंदी व मांसाहार का सेवन न करने का निर्णय लिया है। गौर रहे कि मलाणा गांव में जमद्ग्नि ऋषि का ही अपना अलग कानून चलता है और यहां के लोग देव आदेश को ही सर्वोपरि मानते हैं। गांव में कुछ समय पूर्व ही अग्निकांड की घटना घटित हुई है, जिसमें 36 घर आग की भेंट चढ़ गए थे। इस घटना को देव प्रकोप माना जा रहा था और यह बात देवता जमलू ने अपने पुजारी के माध्यम से कारदारों व ग्रामीणों को बताई कि गांव में लोग उनके कानूनों की अवहेलना कर रहे हैं। शराब के साथ ही मांस का भी प्रयोग किया जा रहा है, जिसके चलते देवता ने ग्रामीणों को अग्निकांड के रूप में सजा दी है।

देवता ने अब अपने नए आदेशों में गांव में शराब व मांस के प्रयोग पर पूर्ण रूप से पाबंदी लगा दी है, जिसको लेकर ग्रामीणों ने सहमति जताते हुए अब गांव में शराब, चिकन व अंडा न खाने का निर्णय लिया है। मलाणा पंचायत के प्रधान राजू राम ने बताया कि देवता के आदेशों की गांव में सख्ती से पालना की जाएगी और अवहेलना करने वालों के खिलाफ जुर्माने के रुप में 1100 से लेकर 11000 रुपए तक वसूल किए जाएंगे। इसके अलावा गांव में शराब पीने और बेचने वाले का हुक्का पानी भी बंद कर दिया जाएगा।

गौर रहे कि मलाणा गांव अपनी पुरानी लोकतांत्रिक व्यवस्था के लिए जाना जाता है। यहां पर देवता के आदेश को ही सर्वोपरि माना जाता है। ग्रामीणों ने कोरोना वैक्सीन की डोज भी देवता की अनुमति से ही ली थी और मुख्यमंत्री ने भी देवता की अनुमति मिलने के बाद ही इस गांव में प्रवेश किया था, ऐसे में देवता जमद्ग्नि ऋषि का निर्णय ग्रामीणों के लिए अंतिम निर्णय होता है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।