चिंतपूर्णी मंदिर सहित सभी धार्मिक स्थानों पर श्रद्धालुओं की एंट्री पर रोक
March 17th, 2020 | Post by :- | 144 Views

ऊना (17 मार्च)- कोरोना के चलते जिलाधीश ऊना संदीप कुमार ने चिंतपूर्णी मंदिर सहित सभी गुरुद्वारों, मस्जिदों व अन्य धार्मिक स्थानों पर श्रद्धालुओं की एंट्री पर रोक लगा दी है। इस बारे में आदेश जारी करते हुए डीसी ने बताया कि जिला ऊना में यह आदेश मंगलवार दोपहर 12 बजे से लागू हो गए हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार के निर्देशों के अनुसार ही जिला प्रशासन ने यह कदम उठाया है और यह आदेश सरकार द्वारा नियंत्रित तथा निजी धार्मिक स्थानों पर भी लागू होंगे। चिंतपूर्णी मंदिर पहुंच रहे श्रद्धालुओं को दर्शन करने की अनुमति नहीं दी जा रही है और उन्हें वापस भेजा जा रहा है। संदीप कुमार ने कहा कि मंदिरों में पूजा-अर्चना सामान्य रूप से चलती रहेगी।
जिलाधीश ने कहा कि बाहरी प्रदेशों से आने वाले श्रद्धालुओं को रोकने के लिए हिमाचल प्रदेश की सीमा पर नाके लगाने के लिए पुलिस विभाग को निर्देश दिए गए हैं। पुलिस के जवान श्रद्धालुओं से भरी गाड़ियों जैसे कि बस, ट्रक व अन्य वाहनों को हिमाचल की सीमा में प्रवेश होने से रोकेंगे। नाकों पर संबंधित एसडीएम को कार्यकारी मजिस्ट्रेट नियुक्त करने को कहा है।
सत्संग, लंगर व भंडारों पर भी रोक
संदीप कुमार ने कहा कि आम लोगों को जगराते, सत्संग, जागरण, कीर्तन, लंगर, भोज, भंडारा व पार्टी आदि का आयोजन न करने के आदेश दिए हैं। अति आवश्यक होने पर ऐसे आयोजनों के लिए पूर्व में जिलाधीश से अनुमति प्राप्त करना अनिवार्य है, जिसमें आयोजन के अति आवश्यक होने का कारण स्पष्ट तौर पर बताना होगा। इसी आवेदन पर जिलाधीश आयोजन की अनुमति प्रदान करेंगे। बिना अनुमति किसी को भी ऐसे आयोजन करने की इजाजत नहीं होगी।
अनावश्यक यात्रा करने से बचें
डीसी ने आम लोगों से अनावश्यक यात्रा न करने और भीड़-भाड़ वाली जगहों में जाने से परहेज करने की अपील की है। उन्होंने कहा कि कोविड-19 के चलते बने हालात को देखते हुए अति आवश्यक होने पर ही यात्रा करें और यात्रा करने के दौरान जरूरी अहतियात बरतें। संदीप कुमार ने कहा कि कोरोना वायरस से बचाव के लिए जिला प्रशासन सभी से सहयोग देने की अपील करता है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।