इन आदतों की वजह से टूटता है रिश्ता, जिन्दगी भर रिसता है जख्म #news4
September 24th, 2022 | Post by :- | 90 Views

वैवाहिक रिश्ते को मजबूती प्रदान करने के लिए सबसे जरूरी है कि पति-पत्नी में आपसी समझ का रिश्ता मजबूत हो। यदि ऐसा नहीं होता है तो वैवाहिक जिन्दगी में कलह की शुरूआत हो जाती है। आपसी समझ को मजबूत बनाने में सबसे बड़ी अहम् भूमिका आपकी आदतों में बदलाव की होती है। अक्सर हम देखते हैं कि पति-पत्नी शादी के बाद भी अपनी कुछ आदतों को छोड़ नहीं पाते हैं जिसके चलते दोनों में नाराजगी पैदा हो जाती है। प्यार और तकरार हर रिश्ते के दो पहलू होते हैं। जिस रिश्ते में प्यार होता है, वहाँ व्यक्ति अक्सर अपने साथी की आम गलतियों को नजरअंदाज कर देता है। परन्तु कुछ गलतियाँ या आदतें ऐसी होती हैं जिन्हें नजरअंदाज करना मुश्किल हो जाता है। यही गलतियाँ रिश्ते में होते हुए भी आपको अकेला कर देती हैं और यदि यही क्रम लगातार जारी रहता है तो रिश्ते में खटास आ जाती है जिसका अन्त रिश्ते के टूटने के साथ होता है। आज हम अपने पाठकों को कुछ ऐसी आदतों के बारे में बताने जा रहे हैं जो कमोबेश हर महिला/ पुरुष में दिखाई दे जाती हैं और यही आदतें रिश्ते के टूटने का कारण बनती हैं।

पुरानी बातों को दोहराना
हर इंसान अपनी जिन्दगी में कभी न कभी कोई न कोई गलती अवश्य करता है। जाहिर है आपके साथी से भी ऐसी कोई गलती हुई होगी और उस गलती के लिए उन्होंने आपसे माफी भी मांग ली होगी। बावजूद इसके आप मौका मिलने पर पुरानी गलती का जिक्र करना बिल्कुल नहीं भूलते हैं। हालांकि, पुरानी बातों को लेकर बार-बार अपने साथी को ताना देने से न सिर्फ आपके साथी को दुख पहुँचता है बल्कि इससे आपका रिश्ता भी कमजोर होने लगता है।

अपशब्दों का इस्तेमाल करना
दाम्पत्य जीवन में अक्सर लड़ाई-झगड़े के दौरान लोग गुस्से में अपने साथी को काफी भला-बुरा बोल देते हैं। अनबन के दौरान अपशब्दों का भूलकर भी उपयोग न करें। इससे आप अपने साथी का अपमान करने के साथ-साथ उनके दिल को ठेस पहुंचा सकते हैं। साथ ही आपके कड़वे वचन आपके रिश्ते की मजबूती को भी प्रभावित कर सकते हैं।

मैं कभी सिंगल नहीं रह सकता
इस तरह की बात बार-बार कहना दर्शाता है कि आप उन्हें कभी भी धोखा दे सकते हैं या कभी उनसे दूर रहना पड़े, तो चीट भी कर सकते हैं। कई लोग खुद को कूल दिखाने के चक्कर में रहते हैं और ऐसी बातें बोलकर अपनी इमेज को खराब कर लेते हैं। आपकी ऐसी बातें साथी को इस बात का अहसास करवाती हैं आपको उनसे कोई प्यार नहीं है बल्कि आप अपना सिर्फ समय व्यतीत कर रहे हैं। जो अपने आप ही आपके रिश्ते को कमजोर कर देता है।

कमियां गिनाते रहना

कुछ लोगों की आदत होती है कि वह हर किसी में सिर्फ कमियाँ ढूंढते रहते हैं, हालांकि यह चीज रिश्ते में सबसे बड़ी समस्या पैदा कर सकती है। अगर आप बातों ही बातों में अपने साथी की बुराई करते हैं या उनकी कमजोरी का मजाक उड़ाते हैं, तो उन्हें बहुत तकलीफ पहुंचती है। आप उनसे उम्मीदें रखें लेकिन इसका बोझ सामने वाले पर डालना सही नहीं। कोई भी श्रेष्ठ नहीं होता है, इस बात का हमेशा ध्यान रखें।

दोष डालना
कुछ ऐसे लोग हमें जिन्दगी में टकराते हैं जिनको लगता है कि वो हमेशा सही होते हैं और हर कमी या गलती का दोष अपने साथी पर डालते हैं। यह अच्छी आदत नहीं है। स्वयं को हमेशा सही समझना और गलती करने पर भी उसे मानने को तैयार नहीं रहना, आपको अपने साथी की नजरों में गिरा देता है। आपको गलती मानकर साथी की राय सुनने की जरूरत है, जो आपको रिश्ते में आगे तक ले जाने का काम करता है।

साथी का मजाक उड़ाना

कुछ लोग अक्सर जाने-अंजाने दूसरों के सामने अपने पार्टनर का मजाक उड़ाने लगते हैं। वहीं आपके ऐसा करने से न सिर्फ आपके साथी की छवि खराब होती है बल्कि दूसरे भी आपके साथी का उपहास करने से पीछे नहीं हटते हैं। इसलिए अपने साथी को हमेशा सम्मान देने की कोशिश करें। साथ ही उन पर अपना पूरा विश्वास बनाए रखें।

साथी से कॉम्पिटिशन करने लगना

आज के युग में कॉम्पिटिशन का जमाना है, इस बात में कोई शक नहीं है लेकिन अपने ही पार्टनर के साथ ऐसा करना ये सही नहीं है। अपने साथी से खुद आपको कभी कॉम्पिटिशन नहीं करना चाहिए। जो लोग हर किसी से प्रतिस्पर्धा करने में लगे रहते हैं, ऐसे लोगों के साथ कोई नहीं रहना चाहता है। ऐसा इसलिए भी क्योंकि रिश्तों में तुलना करना उसे कमजोर बनाता है। इसके बजाय आप अपने पार्टनर को सपोर्ट करें और उनके काम की प्रशंसा करना सीखें। साथी से जलन महसूस करना उन्हें आपसे दूर करने में देर नहीं लगाएगा। आखिर में आपको अकेला ही रहना पड़ेगा।

नोट—यह लेखक के अपने विचार हैं जरूरी नहीं है कि आप इन विचारों से सहमत हों।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।